सर्दी जुकाम की टेबलेट नाम | सर्दी और जुखाम की रामबाण दवा 

सर्दी और जुकाम एक प्रकार की ऐसी बीमारी है जो कि आपके शरीर में वायरस के जरिए फैलती है। बहुत से शोधों में पाया गया है कि सर्दी और जुकाम में तीन प्रकार के वायरस होते हैं जिससे कि आपको  फ्लू होने का खतरा रहता है और वैज्ञानिकों द्वारा शोध में यह पाया गया है  की सर्दी और जुकाम को जन्म देने के लिए 200 ऐसे  वायरस है जिनके वजह से किसी भी व्यक्ति को सर्दी और जुकाम की समस्या हो सकती है यह ज्यादातर बहुत ज्यादा ठंडी चीज या ठंड मौसम के कारण भी सर्दी और जुकाम की समस्या हो जाती है इस समस्या में बदन दर्द,सिर दर्द और नाक बहने जैसे लक्षण होते हैं।सर्दी जुखाम के कारण ही आपके सीने में बहुत ज्यादा कफ  हो जाता है जिससे कि आप का सीना भारी भारी रहता है और आपको बहुत ज्यादा कमजोरी महसूस होती है। कभी-कभी तो बहुत ज्यादा कम हो जाने के कारण आपको तेज बुखार भी आ जाता है। जिससे कि आपके पेट में भी समस्या शुरू हो जाती है तेज बुखार आने के कारण से ही आपके शरीर में  बहुत ज्यादा कमजोरी और थकावट रहती है। जिससे कि आपका किसी भी काम में मन नहीं लगता है और बहुत ही सुस्ती भी बनी रहती है इसीलिए सर्दी और जुकाम के मर्द से छुटकारा पाने के लिए आपको इसके कारणों के बारे में जानना बहुत जरूरी है और इन कारणों को जानने के बाद आप आयुर्वेदिक और एलोपैथिक दवाओं का इस्तेमाल करते हुए ऐसी समस्या से पूर्ण रूप से छुटकारा पा सकते हैं। इसीलिए बहुत सारे लोग सर्दी और जुकाम से छुटकारा पाने के लिए सर्दी जुकाम की टेबलेट नाम के बारे में भी जानने और समझने की कोशिश करते हैं। जिससे कि उन्हें सर्दी और जुकाम की समस्या से छुटकारा मिल सके।

सर्दी जुकाम से हैं परेशान तो आपके लिए ये दवाईयां है उपयोगी

Best Buy









त्रिकटु चूर्ण



  • आयुर्वेदिक
  • No Side Effect
  • पूर्णरूप से आयुर्वेदिक
Budget Pick







लवंगादि वटी



  • अधिक असरदार
  • 100% असरदार
  • सुरक्षित
Trending Buy









पतंजलि श्वासारि क्वाथ



  • पर्ण सुरक्षित
  • पूर्णरूप से फायदेमंद
  • अद्भुत परिणाम

सर्दी और जुखाम के मुख्य कारण 

सर्दी और जुकाम में होने वाले इन्फेक्शन और बार बार छींक आने से आपका बहुत भी बुरा हाल हो जाता है। जिससे कि बचने के लिए आपको तुरंत ही किसी ने किसी दवा घरेलू उपाय या किसी चिकित्सक का भी सहारा लेना चाहिए। क्योंकि इसका इंफेक्शन बहुत ही ज्यादा नहीं फैलने देना चाहिए। इसके इंफेक्शन फैलने से आप को तेज बुखार की समस्या आ सकती हैं। जिससे कि शरीर में बहुत ज्यादा कमजोरी और बदन दर्द की भी समस्या हो सकती है। सर्दी जुकाम के कारण बुखार हो जाने से आपका शरीर बहुत ही कमजोर और ताकत विहीन हो जाता है। जिससे कि आपका किसी भी काम में मन नहीं लगता और आप बहुत ही कमजोरी महसूस करते हैं। इसीलिए ऐसी दिक्कतों से बचने के लिए आपको सर्दी जुकाम के लिए जिम्मेदार मुख्य कारणों के बारे में भी जानना बहुत ही आवश्यक है। क्योंकि जब तक आप ऐसे  कारणों के बारे में नहीं जानेंगे तब तक आप इसके  इलाज और jukam ki tablet के बारे में  सही जानकारी नहीं प्राप्त कर पाएंगे। जब आप किसी चिकित्सक के पास भी जाते हैं। तो सबसे पहले सर्दी और जुकाम से होने वाले कारणों को पता लगाता है। उसके बाद ही उससे निजात पाने के लिए दवाइयों को लिखता है इसीलिए अच्छा है कि आप किसी चिकित्सक के पास जाने के पहले ही ऐसे कारणों को जानकर कुछ आयुर्वेदिक दवाओं का इस्तेमाल करके आप अपने सर्दी और जुकाम की समस्या को दूर कर सकते हैं। तो आइए ऐसे ही कुछ कारणों के बारे में विस्तार से जानते हैं जो कि सर्दी और जुकाम की समस्या के लिए जिम्मेदार माने जाते हैं। 

  • कमजोर रोग प्रतिरोधक क्षमता 
  • किसी प्रकार की एलर्जी 
  • आनुवंशिक कारणों से 
  • वायरल इन्फेक्शन 
  • सीजनल फ्लू 
  • बहुत ज्यादा ठंड में रहने या पानी में भीगने के कारण 

सर्दी और जुखाम की आयुर्वेदिक दवा 

सर्दी और जुकाम को ठीक करने के लिए बहुत सारी ऐसी आयुर्वेदिक दवाएं उपलब्ध है। जिनका इस्तेमाल करके आप सर्दी और जुकाम की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं। सर्दी और जुकाम देखा जाए तो बहुत ज्यादा गंभीर समस्या नहीं है। जब तक  सर्दी और जुकाम का इन्फेक्शन थोड़ा बहुत रहता है। तो इस समस्या से बहुत ज्यादा परेशान होने की जरूरत नहीं है।लेकिन इसे नजरअंदाज भी करना सही नहीं है।क्योंकि इसके फैल जाने से बहुत सारी बड़ी समस्या जन्म ले सकती हैं। जिससे कि आपको सांस लेने में दिक्कत हो सकती है और बहुत ज्यादा लापरवाही बरतने पर यह समस्या आगे जाकर दमा जैसे मर्ज को भी जन्म दे सकती है। इसलिए सर्दी और जुकाम को दूर करने के लिए आयुर्वेदिक दवाओं का भी इस्तेमाल किया जा सकता है। क्योंकि आयुर्वेदिक दवाओं में बहुत सारी ऐसी जड़ी बूटियां  प्राकृतिक औषधियां होती हैं। जो कि सर्दी और जुकाम जैसे मर्ज को ठीक करतीं हैं।ऐसी आयुर्वेदिक औषधियों और जड़ी  बूटियां आपके शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाती हैं। क्योंकि शरीर में किसी भी रोग से लड़ने के लिए रोग प्रतिरोधक क्षमता का मजबूत रहना बहुत ही जरूरी होता है। क्योंकि यह आपके शरीर में किसी भी रोग से फैल रहे बैक्टीरिया और वायरस को खत्म करने का काम करती है।आयुर्वेदिक दवाओं के इस्तेमाल से आपको किसी भी प्रकार का दुष्प्रभाव देखने को नहीं मिलता है। इसीलिए आप जुखाम के लिए टेबलेट और आयुर्वेदिक दवाओं का इस्तेमाल कर सकते हैं। जिससे कि आपको  सर्दी और जुकाम को जड़ से खत्म करने में सहायता मिल सकती है।

  • दिव्य श्वासारि प्रवाही
  • सितोपलादि चूर्ण 
  • तालिसादि चूर्ण 
  • व्योसादि वटी  
  • त्रिकटु चूर्ण 
  • हरिद्रा खंड 
  • अभ्रक भस्म 
  • गिलोय सत
  • दिव्य लवंगादि वटी 
  • पतंजलि ज्वरनाशक क्वाथ 
  • दिव्य ज्वरनाशक वटी 
  •  दिव्य स्वासरी रस 
  • पतंजलि स्वासरी क्वाथ 
  • हिमालया तुलसी कॉफ और कोल्ड टैबलेट 

दिव्य श्वासारि प्रवाही 

दिव्य श्वासारि प्रवाही पतंजलि द्वारा बनाई गई आयुर्वेदिक दवा है। जो कि सर्दी,जुकाम,बुखार और खांसी के लिए इस्तेमाल की जाती है। लॉन्ग, अदरक, अभ्रक भस्म, मुक्ताशुक्ति भस्म, के मिश्रण से तैयार किया गया  है। इस दवा में  मौजूद लॉन्ग सर्दी से होने वाले कफ के लिए  बहुत ही ज्यादा लाभकारी है। आपके  सीने में जमा कफ ग्रुप से बाहर निकल जाता है। इस दवा को आप शहद के साथ दिन में 2 बार ले सकते हैं। इस दवा के बेहतर  परिणाम के लिए आप इसका लंबा उपचार भी जारी रखते हैं। 

सर्दी जुकाम की टेबलेट नाम

सितोपलादि चूर्ण

यह दवा बैद्यनाथ कंपनी द्वारा बनाई गई आयुर्वेदिक दवा है।जोकि मुख्य रूप से दमा खांसी सर्दी और जुकाम के लिए इस्तेमाल की जाती है। इस दवा को दालचीनी, इलायची,बांस जैसे आयुर्वेदिक औषधियों के मिश्रण से तैयार किया गया है। जो कि आपके सर्दी से जुड़े हुए सभी समस्या को खत्म करने का काम करती है। इस दवा  मैं मौजूद दालचीनी आपके सांस की नली में फंसे  बलगम को बाहर निकालने का काम करती है। सांस की नली में फंसे  बलगम के कारण ही आपको सांस लेने में भी बहुत ज्यादा दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। इस दवा को आप 3 ग्राम की मात्रा में शहद के साथ दिन में एक बार ले सकते हैं। इस दवा के बेहतर परिणाम के लिए कम से कम 2 महीने तक इसका उपयोग करना आवश्यक है। 

सर्दी जुकाम की टेबलेट नाम

तालिसादि चूर्ण

इस दवा को मुख्य रूप से बुखार खांसी और सर्दी जुकाम से निजात पाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। इस दवा को पिपली, अदरक ,दालचीनी, इलायची, त्रिकटु, तालीसपत्र, जैसी प्राकृतिक औषधियों के मिश्रण से तैयार किया गया है। इस दवा में मौजूद पिपली में बहुत से ऐसे एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं। जो कि आपके शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने का काम करता है जिससे आपके अंदर सर्दी जुखाम से लड़ने की क्षमता बढ़ जाती है। इस दवा को आप शहद के साथ सुबह शाम में ले सकते हैं। इस दवा को कम से कम 2 महीने लेने से आपको सर्दी जुखाम  से  निजात मिल सकता है।

तालिसादि चूर्ण

व्योसादि वटी

बैद्यनाथ व्योशादी वटी को सबसे ज्यादा सर्दी जुखाम गले का दर्द से निजात के लिए इस्तेमाल किया जाता है। यह एक प्रकार की आयुर्वेदिक औषधि है जोकि चित्रक, दालचीनी, इलायची जैसी प्राकृतिक औषधियों के मिश्रण से तैयार की गई है। इस दवा मौजूद इलायची सर्दी जुकाम में होने वाली खांसी और बलगम को नियंत्रित करने का काम करती है। जब तक आप को खांसी आती रहती हैं तब तक आपके सर्दी और  जुखाम बार-बार बदलती रहती है। इसीलिए खाती का नियंत्रित होना बहुत जरूरी होता है। इस दवा को आप गर्म पानी के साथ दिन में 2 बार ले सकते हैं।

सर्दी जुकाम की टेबलेट नाम

त्रिकटु चूर्ण 

 त्रिकटु चूर्ण बहुत ही पुराना आयुर्वेदिक चूर्ण है जो कि सर्दी, जुखाम से ग्रसित लोगों के लिए इस्तेमाल किया जाता है इस चूर्ण को किसी  सांस  की समस्या से ग्रसित लोगों के इलाज के लिए इस्तेमाल किया जाता है। यह चोरों तीन जड़ी बूटियों से निर्मित है इसीलिए इसको त्रिकटु भी कहते हैं इसमें इस्तेमाल की जाने वाली जड़ी बूटियों का नाम है काली मिर्च पिपली और सोंठ  त्रिकटु चूर्ण की तासीर बहुत ही ज्यादा गर्म होती है इसी कारण से यह सर्दी के मर्ज के लिए इस्तेमाल किया जाता है। इस चूर्ण को आप भोजन करने से 1 घंटे पहले आधे चम्मच चोरों को लेकर शहद के साथ भी खा सकते हैं।

सर्दी जुकाम की टेबलेट नाम

हरिद्रा खंड 

हरिद्रा खंड को सर्दी जुकाम से हुई एलर्जी को खत्म करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है इसके इस्तेमाल से सर्दी और जुकाम से होने वाली एलर्जी पूर्ण रूप से खत्म हो जाती है। इस दवा को आंवला गिलोय हल्दी हरीतकी पीपली दालचीनी  बहेड़ा विडंग  लोहा भस्म निसोथ चव्या  जैसी प्राकृतिक औषधियों के मिश्रण से तैयार किया गया है। इस  दवा में पाया जाने वाला गिलोय शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है जिससे कि सर्दी और जुकाम खत्म हो जाती है और यह बार-बार नहीं होती है इस दवा को आप 2 ग्राम की मात्रा में शहद के साथ सुबह शाम में ले सकते हैं इस दवा के बेहतर लाभ के लिए कम से कम  1 महीने तक उपयोग करना जरूरी है। 

सर्दी जुकाम की टेबलेट नाम

अभ्रक भस्म

बैद्यनाथ अभ्रक  भस्म को सबसे ज्यादा सर्दी जुकाम से होने वाली खांसी को खत्म करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है क्योंकि इसके इस्तेमाल से  खांसी का पूर्ण रूप से खत्म हो जाता है। इस दवा को मुख्य रूप से अभ्रक भस्म से तैयार किया गया है।अभ्रक भस्म  मैं बहुत से ऐसे तत्व पाए जाते हैं जो की खांसी को दूर करने के लिए बहुत ही अच्छे एजेंट के रूप में काम करते हैं। इस दवा को आप शहद के साथ दिन में दो बार ले सकते हैं। खांसी को जड़ से खत्म करने के लिए आप इसका लंबा इलाज जारी रख सकते हैं।

अभ्रक भस्म

गिलोय सत

 गिलोय सत जुखाम और sardi ke liye tablet है जोकी सबसे ज्यादा  सर्दी और जुकाम से होने वाले बुखार को खत्म करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है इस दवा के टेबल पर आपके शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है जिससे कि सर्दी और जुकाम नहीं होता है। इस दवा को गिलोय से निर्मित किया गया है।  गिलोय में ऐसे बहुत से  एंटी ऑक्सीडेंट तत्व पाए जाते हैं जोकि आपके अंदर रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाते हैं। इस दवा को आप खाना खाने के बाद गुनगुने पानी में दो चम्मच की मात्रा में ले सकते हैं। इस दवा के बेहतर परिणाम के लिए आप इसको दिन में दो बार ले सकते हैं।

गिलोय सत

लवंगादि वटी

लवंगादि वटी सर्दी जुकाम और खांसी के लिए इस्तेमाल की जाने वाली आयुर्वेदिक दवा है जो कि पतंजलि के द्वारा तैयार की गई है। इस दवा को  लॉन्ग,काली मिर्च,बहेड़ा जैसी आयुर्वेदिक औषधियों के मिश्रण से तैयार किया गया है। इस दवा में पाए जाने वाले लॉन्ग में बहुत से ऐसे गुण होते हैं जो कि सर्दी और जुकाम से होने वाले इन्फेक्शन के वायरस को खत्म करने का काम करते हैं जिससे कि आपके शरीर में सर्दी और जुकाम की समस्या खत्म हो जाती है। इस दवा को आप सुबह और शाम में गुनगुने पानी के साथ ले सकते हैं। इस दवा के बेहतर परिणाम के लिए इसका लंबा इलाज जारी रखना चाहिए। 

लवंगादि वटी

पतंजलि ज्वरनाशक क्वाथ 

पतंजलि ज्वरनाशक क्वाथ को  ज्यादातर तब इस्तेमाल किया जाता है जब आपको सर्दी जुखाम के इंफेक्शन के कारण बुखार हो जाता है और इसी बुखार को ठीक करने के लिए इस दवा का इस्तेमाल किया जाता है।  इस दवा को अश्वगंधा, कालमेघ, ब्राह्मी, गिलोय, नीम, तुलसी, कुटकी जैसी आयुर्वेदिक औषधियों के मिश्रण से तैयार किया गया है।  इन सभी जड़ी बूटियों में बहुत सारे ऐसे तत्व पाए जाते हैं जो कि आपके शरीर में कमजोरी और थकान की स्थिति में आपके शरीर में  सारे कार्यों को ठीक तरह से काम करने के लिए योग्य बनाते हैं जिससे कि सर्दी और जुकाम के इंफेक्शन से पहले  बैक्टीरिया खत्म हो जाते हैं। इन्हीं बैक्टीरिया के खत्म होने से आपका सर्दी जुकाम बहुत जल्द ठीक हो जाता है।  इस दवा को आप गुनगुने पानी में 30ml की मात्रा  मैं दिन में दो बार ले सकते हैं सर्दी और जुकाम को जड़ से खत्म करने के लिए इस दवा को कम से कम 4 हफ्ते तक इस्तेमाल करना आवश्यक है। 

सर्दी जुकाम की टेबलेट नाम

दिव्य ज्वरनाशक वटी

 दिव्य ज्वरनाशक (sardi jukam ki tablet ka name) दवा एक प्रकार की आयुर्वेदिक टेबलेट है जो कि पतंजलि के द्वारा बनाई गई है इस दवा को सर्दी जुकाम से पहले वायरल फीवर को खत्म करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। इस दवा को अश्वगंधा लॉन्ग नीम तुलसी त्रिकटु चिरायता जैसी प्राकृतिक औषधियों के मिश्रण से तैयार किया गया  है। इस दवा के सेवन से आपके शरीर में बुखार का तापमान कम होता है इस दवा में बहुत से तत्व पाए जाते हैं जो कि आपके शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए कार्य करते हैं। जिससे आपकी सर्दी जुखाम की समस्या खत्म हो जाती है या फिर आपको बार-बार हो रहे सर्दी जुखाम की समस्या एकदम से खत्म हो जाती है इस दवा को आप सुबह शाम में 1-1 टेबलेट गुनगुने पानी के साथ ले सकते हैं।

सर्दी जुकाम की टेबलेट नाम

पतंजलि श्वासारि क्वाथ 

पतंजलि स्वसरी क्वाथ पतंजलि द्वारा तैयार किया गया आयुर्वेदिक उत्पाद हे जोकि सर्दी जुकाम से उत्पन्न हुई सांस की बीमारी के इलाज के लिए इस्तेमाल किया जाता है। अक्सर देखा जाता है कि बहुत ज्यादा सर्दी हो जाने से आपके सीने में जकड़न हो जाती है जिससे कि आप को सांस लेने में बहुत ज्यादा दिक्कत होने लगती है इसलिए इस दवा का इस्तेमाल करना अति आवश्यक है। इस दवा को छोटी कटेरी, काला वसा,बनफ़सा,मुलेठी, काली मिर्च सफेद वासा छोटी पिपली दालचीनी लॉन्ग देसी तुलसी तेज पत्र सोंठ भृंगराज लसोड़ा अमलतास जैसी आयुर्वेदिक औषधियों के मिश्रण से तैयार किया गया है। जो कि सर्दी जुकाम को जड़ से खत्म करने के लिए बहुत ही लाभकारी औषधियां है। 

सर्दी जुकाम की टेबलेट नाम

हिमालया तुलसी कॉफ और कोल्ड टैबलेट

सर्दी जुकाम और खांसी की टेबलेट हिमालया तुलसी हिमालया कंपनी द्वारा तैयार किया गया उत्पाद है जो कि सर्दी जुखाम खांसी और कफ की समस्या को दूर करने के लिए इस्तेमाल की जाती है। इस दवा को तुलसी से निर्मित किया गया है। तुलसी में बहुत सारे ऐसे एंटीबायोटिक एंड एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं जो कि हमारे शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने और बैक्टीरिया से लड़ने का काम करते हैं। रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ने के कारण ही आपके तरह में किसी भी प्रकार के रोग ना हो शरीर उसी हिसाब से सक्षम हो जाता है।  इस दवा को एक-एक टैबलेट गुनगुने पानी के साथ सुबह शाम में लिया जा सकता है इस दवा को कम से कम 1 महीने तक इस्तेमाल करना अति आवश्यक होता है जिससे आपके शरीर में दोबारा सर्दी और जुकाम की समस्या नहीं होती है। 

सर्दी जुकाम की टेबलेट नाम

इसे भी जाने- लिवर का रामबाण इलाज

सर्दी जुकाम की टेबलेट का नाम 

सर्दी और जुकाम के इंफेक्शन से तुरंत निजात पाने के लिए आप एलोपैथिक दवाओं का भी इस्तेमाल कर सकते हैं क्योंकि एलोपैथिक दवाओं में बहुत सारे ऐसे गुण पाए जाते हैं जो कि आपको सर्दी और जुकाम की समस्या से तुरंत निजात दिलाने का काम करते हैं क्योंकि बहुत सारे लोगों में देखा जाता है कि सर्दी और जुकाम से उनका बहुत ही बुरा हाल हो जाता है और के अंदर इतना ज्यादा इंफेक्शन फैल जाता है कि जिससे बहुत सारी अन्य समस्याएं भी शुरू हो जाती हैं जैसे कि सीने में कफ जमने से सांस लेने में दिक्कत शुरू हो जाती हैं और बना रहता है इसीलिए ऐसी समस्याओं से निजात पाने के लिए सर्दी  जुखाम को तुरंत करना अति आवश्यक होता है इसीलिए हम इस लेख  में सर्दी जुकाम बुखार की टेबलेट नाम लिस्ट के बारे में बता रहे हैं जो कि आपको तुरंत राहत दिलाने में बहुत ही कारगर दवाएँ हैं। 

  • निमेसुलाइड
  • लोरैटैडाइन
  • कोल्क टैबलेट 
  • सॉलविन कोल्ड
  • फेबरेक्स प्लस 

निमेसुलाइड

 यह एक प्रकार की एंटी इन्फ्लेमेटरी दवा है जो कि सर्दी जुकाम और तेज बुखार से निजात पाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। इस दवा के इस्तेमाल से आपके शरीर में सर्दी जुकाम से पहले बैक्टीरिया एकदम पर खत्म हो जाते हैं जिससे कि आपके शरीर में सर्दी जुकाम का इन्फेक्शन पूर्ण रूप से खत्म हो जाता है  और बुखार भी उतर जाता है। इस दवा को आप भोजन करने के पश्चात एक टेबलेट की मात्रा ले सकते हैं या फिर इस दवा के खुराक के बारे में जानने के लिए आप  किसी चिकित्सक से परामर्श कर सकते हैं। इस दवा को सीधे धूप लगने या नमी  वाली जगह पर रखने से बचाना  चाहिए। इस दवा को हमेशा नार्मल टेंपरेचर में ही रखना चाहिए।

सर्दी जुकाम की टेबलेट नाम

लोरैटैडाइन

सर्दी जुकाम, बुखार की अंग्रेजी दवा लोरैटैडाइन जोकी सर्दी जुकाम से हुई एलर्जी को खत्म करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। अक्सर आप देखते हैं कि सर्दी जुखाम में आपको बहुत देर से एलर्जी हो जाती है जिससे कि बहुत ज्यादा छींक  आने लगती हैं और तालू में बहुत ज्यादा खुजली भी होने लगती है जोकि सर्दी जुखाम तो हुई एलर्जी के कारण भी हो सकती है ऐसी  की एलर्जी को खत्म करने के लिए आप इस दवा का इस्तेमाल कर सकते हैं। 

सर्दी जुकाम की टेबलेट नाम

कोल्क टैबलेट 

इस दवा को बुखार,सिरदर्द, सर्दी जुखाम से निजात पाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। इस दवा के इस्तेमाल से आपके बंद नाक साफ हो जाती है और सिर दर्द और जुखाम से छुटकारा मिल जाता है क्योंकि इसमें बहुत सारे ऐसे तत्व पाए जाते हैं जो कि सर्दी जुकाम और कफ को जन्म देने वाले बैक्टीरिया से लड़ने में बहुत ही  मददगार साबित होते हैं। 

सर्दी जुकाम की टेबलेट नाम

सॉलविन कोल्ड 

सॉल्विन कोल्ड सर्दी जुकाम की टेबलेट का नाम है जोकी एक प्रकार की एलोपैथिक दवा है जो  की सिर दर्द गले में दर्द नाक बहना और मांसपेशियों में दर्द और बुखार जैसे लक्षणों को ठीक करने के लिए इस्तेमाल की जाती है इस दवा को आप भोजन करने के पहले या करने के बाद में भी ले सकते हैं इस दवा की खुराक  आपके मर्ज के बारे में जानने के बाद ही निर्धारित किया जा सकता है कि इस दवा की क्या खुराक लेनी चाहिए क्योंकि अगर आपके अंदर ज्यादा इन्फेक्शन है  इस दवा को सुबह और शाम लिया जा सकता है।

सर्दी जुकाम की टेबलेट नाम

फेबरेक्स प्लस 

फेब्रिक्स प्लस  एक एलोपैथिक दवा है जो कि सर्दी जुखाम बुखार और गले के दर्द को ठीक करने के लिए इस्तेमाल की जाती है यह दवा टेबलेट ड्रॉप और सिरप के रूप में भी उपलब्ध है। इस दवा की खुराक को आप मर्ज की गंभीरता को जानते हुए ही तय कर सकते हैं क्योंकि अगर आप मर्ज की गंभीरता को मिला तुझे इस दवा की खुराक लेना शुरू कर देंगे तो कुछ विपरीत परिणाम भी देखने को मिल सकते हैं इसलिए इस दवा की खुराक के बारे में आप किसी डॉक्टर से भी परामर्श कर सकते हैं।

सर्दी जुकाम की टेबलेट नाम

सर्दी जुखाम से छुटकारे के लिए घरेलू उपाय

सर्दी जुकाम के लिए बहुत सारे ऐसे घरेलू और आयुर्वेदिक उपाय हैं जो कि सर्दी जुखाम के मर्द से छुटकारा दिलाने के लिए बहुत ही लाभकारी होते हैं इन सभी घरेलू उपायों का आप इस्तेमाल करके अपने सर्दी जुकाम के समस्या से छुटकारा पा सकते हैं। क्योंकि अगर आपके अंदर हल्की सर्दी जुखाम की समस्या है तो कोई जरूरी नहीं कि आप बहुत ज्यादा दवाइयों का सेवन करें या किसी डॉक्टर से ही परामर्श करें आप कल की फोटो सर्दी जुकाम को खत्म करने के लिए घरेलू उपाय और औषधियों का भी सहारा ले सकते हैं क्योंकि हमारे  और आपके घर में बहुत सारे ऐसे प्राकृतिक औषधियां उपलब्ध रहती हैं जिनके बारे में पूर्ण जानकारी आपको नहीं होती है इसलिए आप उनके प्राकृतिक गुणों और औषधि उपायों के बारे में नहीं जान पाते हैं इसीलिए ऐसी प्राकृतिक औषधियों और खाद्य पदार्थों के बारे में जानना बहुत ही आवश्यक है क्योंकि कभी-कभी आकाश मिक ऐसी आवश्यकता पड़ जाती है कि जहां पर आपको किसी भी डॉक्टर या दवा का सहारा नहीं मिल पाता है तो ऐसे समय में आपके पास सिर्फ एक ही उपाय होता है कि आप घरेलू उपाय का इस्तेमाल करके सर्दी जुकाम  से हुए इंफेक्शन को खत्म कर सकते हैं क्योंकि सर्दी जुकाम से हुए इंफेक्शन को तुरंत खत्म किया जा सकेगा तो यह बहुत ही ज्यादा दिक्कत खड़ा करने वाला होता है आपके सीने में बहुत ज्यादा कफ हो जाता है और सांस की नली में भी कफ  हो जाने के कारण आप को सांस लेने में बहुत ज्यादा दिक्कतें होने लगती है अगर इस कफ और सर्दी को आप नजरअंदाज कर देंगे तो आगे चलकर यह आपके अंदर सांस और दमे की भी समस्या खड़ी कर सकता है इसीलिए आप सबसे पहले ऐसे शुरुआती लक्षणों को जानकर घरेलू उपाय का इस्तेमाल करते हुए सर्दी जुकाम की समस्या को जड़ से खत्म कर सकते हैं तो आइए ऐसे ही कुछ घरेलू उपाय के बारे में जानते हैं जो कि आप की सर्दी जुकाम की समस्या को खत्म करने में बहुत ही लाभकारी साबित होते हैं।

  • लहसुन का सेवन 
  • शहद का सेवन 
  • मसालेदार काढ़ा 
  • अदरक और शहद
  •  काली मिर्च 
  • मुलेन चाय 
  • हल्दी दूध 
  • दालचीनी 
  • सेंधा नमक
  • तुलसी की पत्ती 

लहसुन का सेवन 

लहसुन को आप खानपान में सबसे ज्यादा इस्तेमाल करते हैं लेकिन आप इसके बहुत ही लाभदायक गुणों से हमेशा से अनजान रहे हैं लहसुन में एंटीमाइक्रोबॉयल और एंटीवायरल गुण होने के कारण यह आपके शरीर में सर्दी जुखाम की समस्या से लड़ने में बहुत ही कारगर साबित होते हैं जोकि सर्दी जुखाम से पहले इन्फेक्शन और बैक्टीरिया को खत्म करने का काम करते हैं लहसुन को आप को हल्के आंच में भुज  कर शहद के साथ खाने से सर्दी जुकाम मैं आपको तुरंत लाभ मिलता है।

शहद का सेवन 

 शहद को हमेशा से ही जुकाम और गले की दर्द को ठीक करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है क्योंकि इसमें बहुत सारे ऐसे एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं जो कि हमारे शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाते हैं जिससे कि हमारी शरीर किसी भी रोग से लड़ने के लिए बहुत ही अच्छा और शक्तिशाली हो जाती है किस में पाई जाने वाली एंटीवायरल जो कि सर्दी जुकाम के वायरस को खत्म करने का काम करते हैं शहद को हमेशा ऑर्गेनिक  शहद ही इस्तेमाल करना चाहिए क्योंकि आजकल बहुत सारे ऐसे मिलावटी  शहद आ रहे हैं जो कि आपको फायदा ना करें।

मसालेदार काढ़ा 

सर्दी जुकाम और बदन दर्द से छुटकारा पाने के लिए बहुत से लोग काढ़े  का भी इस्तेमाल करते हैं इसीलिए सर्दी जुखाम खो जाने पर आप मसालेदार खाने का भी इस्तेमाल कर सकते हैं क्योंकि आपके खाद पदार्थों में यूज होने वाले बहुत सारे ऐसे मसाले होते हैं जो जिसमें बहुत सारे ऐसे तत्व पाए जाते हैं जो कि आपके सर्दी जुकाम को खत्म करने के लिए और उससे पहले बैक्टीरिया को मारने का काम करते हैं इसीलिए कार्य में आप धनिया के बीच जीरा,सौंफ  और नमक को मिला  कर धीमी आंच पर पका लीजिए उसके बाद इसको पीने से आपको बहुत ही ज्यादा फायदा देखने को मिलता है।

अदरक और शहद

अदरक में बहुत सारे एंटीबायोटिक और एंटीवायरल ग्रुप पाए जाते हैं जो कि सर्दी जुकाम की समस्या से छुटकारा दिलाने के लिए बहुत ही असरदार साबित होते हैं इसीलिए अदरक और शहद के मिश्रण  को भी आप सर्दी जुकाम की समस्या से छुटकारा के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं। अदरक में बहुत सारे ऐसे गुण पाएँ जातें है जोकी थायराइड का रामबाण इलाज करने के लिए बहुत असरदार साबित होते हैं। अदरक के टुकड़े को आप अच्छी तरह से घिस ले और उसके बाद उसको शहद में मिलाकर गर्म पानी में डाल दें। फिर उसके बाद इस घोल को पीने से आपके शरीर में थोड़ा ताजगी का एहसास होगा और सर्दी जुखाम से छुटकारा मिलेगा।

 काली मिर्च 

काली मिर्च बहुत प्राचीन काल से ही सर्दी जुखाम को खत्म करने का और सर्दी जुकाम से सीने और सांस की नली में जमे कफ को बाहर निकालने के लिए इस्तेमाल किया जाता है काली मिर्च सर्दी जुकाम के कारण गले में दर्द और बदन दर्द से भी आपको छुटकारा दिलाता है इसीलिए काली मिर्च को आप इन सभी समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं। काली मिर्च के पाउडर को गुनगुने पानी में डालकर पीने से आपके गले का दर्द और सर्दी में बहुत ही ज्यादा राहत मिलती है।

मुलेन चाय 

सर्दी और जुकाम से छुटकारा दिलाने के लिए चाय एक बहुत ही प्रभावशाली और असरदार उपाय है जोकि सर्दी जुखाम से आपके सीने में जमे बलगम को बाहर निकालने का काम करती है। इसलिए आप  मूलन चाय को सर्दी और जुकाम से छुटकारा पाने के लिए और सीने के बलगम को निकालने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं चाय बनाने के लिए आप  मूलन के पत्तियों को गर्म पानी में  डालकर अच्छी तरह से पका लें उसके बाद उसको पिए तो इससे आपको सीने में हल्का पन महसूस होगा जिससे कि आपके शरीर का दर्द और सिर दर्द खत्म हो जाएगा और जुखाम में भी बहुत ही राहत देखने को मिलेगा।

हल्दी दूध 

हल्दी में बहुत सारे ऐसे एंटी ऑक्सीडेंट और एंटीबायोटिक गुण पाए जाते हैं जो कि आपके शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए बहुत ही कारगर तत्व होते हैं  हल्दी में हल्दी में करक्यूमिन पाया जाता है और दूध में बहुत सारे ऐसे विटामिंस मिनरल्स और प्रोटीन पाए जाते हैं जिससे कि आपके शरीर में सर्दी जुखाम और बुखार से होने वाली थकावट और कमजोरी को दूर करने का काम करते हैं इसीलिए आपको हमेशा  सर्दी और जुकाम बुखार के समय हल्दी और दूध का  भी सेवन करना चाहिए जिससे कि आपको सर्दी और जुकाम से बहुत जल्द छुटकारा मिल सकता है और आपके शरीर की कमजोरी भी दूर हो सकती है।

दालचीनी 

दालचीनी एक प्रकार के प्राकृतिक औषधि है जो कि हम अपने दैनिक खानपान और सब्जी में मसाले के रूप में भी इस्तेमाल करते हैं दालचीनी को हमेशा से ही सर्दी जुखाम और बलगम को बाहर निकालने के लिए इस्तेमाल किया जाता है दालचीनी में बहुत सारे ऐसे एंटीवायरल और एंटी ऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं जोकि जुकाम और सर्दी के लक्षणों को खत्म करने में बहुत ही उपयोगी और कारगर होते हैं इसलिए आपको दालचीनी और शहद को मिलाकर दिन में 2 बार सेवन करना चाहिए जिससे कि आप की सर्दी और जुकाम की समस्या दूर हो सकती है।

सेंधा नमक

 सेंधा नमक में बहुत सारे ऐसे गुण होते हैं जो कि आपके शरीर से गंदगी को बाहर निकालने और मांसपेशियों के दर्द को दूर करने का काम करते हैं इसीलिए आपको सर्दी और जुकाम की समस्या में सबसे ज्यादा राहत दिलाने के लिए सेंधा नमक और पानी के घोल का  भाप लेना चाहिए जिससे कि आपका बलगम बाहर आने लगता है और सर्दी जुकाम की समस्या खत्म हो जाती है।

तुलसी की पत्ती 

सर्दी और जुकाम के मरीज के लिए सबसे ज्यादा तुलसी के इस्तेमाल किया जाता है क्योंकि सर्दी और जुकाम को ठीक करने के लिए  तुलसी एक रामबाण दवा है  जिसमें बहुत सारे ऐसे एंटीबायोटिक गुण पाए जाते हैं जो कि आपको सर्दी और जुकाम से फैले इंफेक्शन और बैक्टीरिया को खत्म करने का काम करते हैं जिससे कि आपका सर्दी और जुकाम की समस्या खत्म हो जाती है। इसीलिए आपको हल्के गुनगुने पानी में तुलसी की पत्ती को पका लेना चाहिए उसके बाद इसको काढ़े  की तरह पी सकते हैं जिससे कि आपको सर्दी और जुकाम में बहुत ही आराम मिलता है।

निष्कर्ष 

आज हम आपको इस लेख के माध्यम से सर्दी जुकाम से राहत देने वाले बहुत से ऐसे उपायों और आयुर्वेदिक और एलोपैथिक दवाओं के बारे में विस्तार से बताएंगे जिसका इस्तेमाल करके आप सर्दी जुकाम के समस्या को जड़ से खत्म कर सकते हैं आयुर्वेद में बहुत से ऐसे सर्दी जुकाम की टेबलेट नाम जो कि आपके सर्दी जुकाम के समस्या को पूर्ण रूप से निजात दिलाने में बहुत ही लाभकारी और कारगर साबित हो सकती हैं इसीलिए इस लेख में ऐसी प्रमुख आयुर्वेदिक दवा के बारे में विस्तार से बताया गया है।  सर्दी जुखाम की समस्या से निजात पाने के लिए बहुत सी  एलोपैथिक दवाएं हैं जिनका इस्तेमाल करके आप अपनी समस्या को दूर कर सकते हैं सर्दी जुखाम से ट्रेन निजात के लिए एलोपैथिक दवाएं सबसे कारगर होती हैं लेकिन इसके कुछ साइड इफेक्ट भी देखने को मिल सकते हैं इसीलिए आपको इनके खुराक के बारे में किसी ना किसी चिकित्सक से परामर्श कर लेना चाहिए। इस लेख में सर्दी जुकाम के समस्या से निजात पाने के लिए बहुत से ऐसे घरेलू उपाय सुझाए गए हैं जिनका  इस्तेमाल करके आप सर्दी जुखाम की समस्या को आप अपने घर में ही ठीक कर सकते हैं। 

सबसे ज्यादा पूछे जाने वाले प्रश्न और उत्तर 

प्रश्न: सर्दी जुकाम की टेबलेट का नाम क्या है?

उत्तर-सर्दी जुकाम से छुटकारा पाने के लिए आप सॉल्विन कोल्ड टेबलेट का  इस्तेमाल कर सकते हैं।

प्रश्न :सर्दी जुकाम में कौन सा दवा खाना चाहिए?

उत्तर-सर्दी जुकाम में आयुर्वेदिक दवाओं का भी इस्तेमाल कर सकते हैं जिसका आपके शरीर पर कोई विपरीत असर नहीं होता है क्योंकि आयुर्वेदिक  दवाएं प्राकृतिक जड़ी बूटियों के मिश्रण से बनी होती है आयुर्वेदिक औषधियां जैसे- दिव्य सवासरि प्रवाह,सितोपलादि चूर्ण,तालिसादि चूर्ण का इस्तेमाल किया जा सकता है।

प्रश्न :खांसी जुकाम की टेबलेट कौन सी है? 

उत्तर- सर्दी जुकाम से होने वाली  खांसी को ठीक करने के लिए आप फैब्रिक प्लस टेबलेट का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

Leave a Comment