क्या हस्तमैथुन से शारीरिक कमजोरी आती है | जानें सच

वीर्य पुरुष के शरीर से निकलने वाली वह धातु है जो वंश वृद्धि के अत्यन्त महत्वपूर्ण है। आपके प्रश्न क्या हस्तमैथुन (Masturbation) करने से शारीरिक कमजोरी आती है के विषय में भिन्न भिन्न मतभेद समाज में विद्यमान हैं। आयुर्विज्ञान के अनुसार मुठ मारने से शारीरिक एवं लिंग की कमजोरी आती है वहीं आधुनिक माडर्न साइंस का मानना है कि रोजाना निकालने से शरीर पर कोई प्रभाव नहीं पडता।

आयुर्वेद के अनुसार वीर्य मनुष्य के शरीर के सातवीं धातु माना गया है, जो सर्वश्रेष्ठ है तथा मानव रक्त से निर्मित होता है। यह एक पुरुष को मर्द और नामर्द की श्रेणी में विभाजित करती है। पुरुष के शरीर में वीर्य शुक्राशय ग्रंथि में बनने वाला सफेद द्रव है, जिसमें शुक्र धातु लगभग 30 प्रतिशत पौरुष ग्रंथि से श्रावित होती है और 70 प्रतिशत शुक्राशय ग्रंथि से निकलता है। मनुष्य के शरीर में दो वृषण केस होते है जिसके अंदर शुक्राशय होता है और इसी शुक्राशय में शुक्राणुओं का निर्माण होता है।

वीर्य कैसा होता है?

पुरुष शरीर में बनने वाला स्वस्थ वीर्य गाढ़ा, चिकना, सफेद द्रव होता है जो रक्त से निर्मित होता है। स्वस्थ गाढ़ा वीर्य संतानोत्पत्ति का अहम भूमिका निभाता है। यदि वीर्य पतला, मैला, पीला, पतले दूध जैसा, झागदार, बदबूदार, और पानी की तरह पतला है तो यह दूषित, विकारयुक्त कमजोर वीर्य माना जाता है।

मुठ मारने से क्या नुकसान होता है?

आज के इस आधुनिक युग में ज्यादातर लड़के लडकियों के हाथ में मोबाइल फोन रहना आम बात है। जिस कारण आज के युवा की पहुँच अश्लील सामग्री जैसे सेक्स वीडियोज, फोटोज, एनीमेशन, आर्टीकल पर हर समय रहती है। आज का युवा वर्ग अपनी संतुष्टी के लिए हस्तमैथुन का प्रयोग करने लगता है और कब इसको अपनी आदत बना लेता है उसे पता ही नहीं चलता। जैसा कि हम सभी लोग जानते हैं हस्तमैथुन (Hand Practice) को भारतीय समाज में अनैतिक क्रिया के रूप में देखा जाता है। जिन लड़कियों का कोई लड़का मित्र या जिन लडकों की कोई लड़की मित्र नहीं होती है और वह अपनी सेक्स डिजायर को संतुष्ट करने के लिए इस अनैतिक सेक्स क्रिया का प्रयोग करना प्रारम्भ कर देते हैं। इस हस्तमैथुन की प्रक्रिया में पुरुष अपने लिंग को हाथ में पकड़ कर हिलाते हैं वहीं स्त्री अपनी यौनी में किसी कोमल चीज जैसे अपनी अंगुली, मूली, गाजर, डिल्डो आदि डालकर सेक्स का आनन्द प्राप्त करती हैं और अपनी इच्छा की पूर्ति करते हैं। हस्तमैथुन को ग्रामीण भाषा में मुठ (मुट्ठ) मारना भी बोला जाता है। अक्सर हस्तमैथुन करने वाले स्त्रि व पुरुष के मन में प्रश्न आता है कि मुठ मारने से क्या शरीर में कमजोरी आती है? तो हम आपको बता दें कि एक सीमित हद तक मास्टरवेशन करने से शरीर को ज्यादा हानि नहीं होती है परन्तु रोजाना अप्राकृतिक सेक्स करने से शारीरिक कमजोरी जैसे अत्यधिक नींद, शरीर में थकान रहना, काम करने में मन न लगना, एकाग्रता का भंग हो जाना, याददाश्त का कम होना आदि परेशानियाँ उत्पन्न हो सकती हैं ।

हस्तमैथुन के भिन्न भिन्न तरीके

आज के आधुनिक युग में युवा वर्ग की औसतन वैवाहिक सम्बन्ध में बंधने की आयु 28 वर्ष से प्रारम्भ हो रही है। आज का युवा अपने करियर एवं भविष्य को लेकर शादी के बंधन में जल्दी नहीं बंधना चाहता है और अपने परिवार में शादी के लिए मना करता रहता है परन्तु मेल फीमेल में किशोरावस्था के प्रारम्भ होने पर हार्मोनल परिवर्तन आते हैं और उनके मन में यौन क्रियाओं को जानने की इच्छायें जागृत होने लगती हैं। इन्हीं के चलते युवा वर्ग पोर्न वीडियो (ब्लू फिल्म), नेकेड फोटोज, सेक्स चैट और अन्य उत्तेजना उत्पन्न करने वाले माध्यमों की ओर खिचाव महसूस करता है और इसके उपरांत उत्पन्न हुई कामवासना को शांत करने के लिए मुठ मारता है और धीरे धीरे मुठ मारने की लत उसे लग जाती है। हस्तमैथुन कर वह अपनी कामवासना को तो संतुष्ट कर लेता है परन्तु लम्बे समय तक मुठ मारने के कारण उसका लिंग ढीला हो जाता है, पूरे शरीर की नसों में कमजोरी का अनुभव होता है। मुठ मारने का मुख्य कारण युवा वर्ग के पास अपना सेक्स पार्टनर न होना है। हस्तमैथुन में पुरुष अपने उत्तेजित लिंग को हाथ, तकिये आदि से घर्षित कर वीर्य को स्खलित कर देता है और रिलैक्स फील करता है वहीं महिलायें अपनी अंगुली, मूली, गाजर, सैक्स टॉयज को अपनी यौनि में डालकर पानी निकाल देती हैं और अपनी सेक्स डिजायर को नियंत्रित कर लेती हैं। इससे आपको ज्ञात हुआ कि बिना सेक्स पार्टनर के अपनी यौन इच्छाओं की पूर्ति भिन्न भिन्न तरीकों से करने की क्रिया ही हस्तमैथुन / मास्टरवेशन / मुठ मारना कहलाती है।

Read Also : पेशाब से बवासीर का इलाज । जाने सच और झूठ

हस्तमैथुन के कारण

स्त्री एवं पुरूष में हस्तमैथुन करने का मुख्य कारण सेक्स उत्तेजना है। यदि कोई लडका /  लडकी अश्लील फिल्म देखता है, अश्लील बातों के बारे में सोचता है या अपने दोस्तों के साथ डिस्कशन करता है तो उनके शरीर में कमोत्तजना उत्पन्न हो जाती है तो इस मानसिक / भौतिक कारणों से आई उत्तेजना को नियंत्रित करने के लिए स्त्री या पुरुष द्वारा हस्तमैथुन की क्रिया की जाती है। कभी कभी गलत संगत के चलते भी मुठ मारने की आदत लग जाती है और भारत में शादी से पूर्व संभोग करना गलत माना जाता है अतः भारतीय युवा अपनी यौन क्रियाओं को चरम पर ले जाने के लिए स्वयं को उत्तेजित कर मास्टरबेशन करते हैं। यह क्रिया हस्तमैथुन कहलाती है। यह भी कहा जाता है कि कुछ महिलाओं / पुरुषों को अपनी पार्टनर के साथ सेक्स करने में इतना मजा नहीं आता जितना हस्तमैथुन में। मुठ मारने की क्रिया स्त्री और पुरुष दोनों द्वारा स्वयं को संतुष्ट करने के लिए की जाती है। मुठ मारने के कुछ कारण निम्नवत हैः-

muth

  • अश्लील साहित्य / कहानियाँ पढ़ना।
  • अश्लील / नंगे चित्र देखना।
  • पोर्न वीडियो देखना।
  • सेक्स के बारे में अधिक सोचना।
  • एडल्ट कंटेट पर ज्यादा ध्यान देना।
  • अपने पूर्व के किसी सेक्स पार्टनर के बारे में सोचना।
  • सेक्स की उत्तेजना होने पर पार्टनर न मिलने पर।
  • पेशाब रोकना।
  • एकांत में अकेले में रहने पर भी हस्तमैथुन करने की इच्छा जागृत होती है।
  • कामवासना की अधिकता।

स्त्री और पुरुष द्वारा रोजाना हिलाने से क्या होता है (kya virya nikalne se kamjori aati hai)

यदि आपको प्रतिदिन मुठ मारने की आदत हो गयी है तो यह आपको मानसिक और शारीरिक रूप से नुकसानदायक हो सकती है। सीमित मात्रा में हिलाकर सेक्स इच्छा की पूर्ति करने पर शरीर को लाभ प्राप्त होता है। यदि आप एक सप्ताह में अधिकतम् तीन बार हिलाकर हस्तमैथुन कर निकालते हैं तो आपके शरीर पर इसका ज्यादा नकारात्मक प्रभाव नहीं पडेगा। परन्तु इससे अधिक मात्रा में मुठ मारना आपको निम्नलिखित शिकायतें पैदा कर सकता है।

  • दिमागी कमजोरी
  • मन का संतुष्ट न होना
  • शीरीरिक थकान
  • शरीर से कैल्शियम की कमी
  • किसी काम में मन न लगना
  • दिमाग का एकाग्र न होना
  • बालों का कमजोर होना
  • धातु रोग होना
  • यौन समस्यांए
  • लिंग सम्बन्धी समस्या
  • शीघ्रपतन
  • लिंग में सूजन
  • अकेले रहने का मन करना
  • वीर्य का पतला हो जाना
  • अधिक निद्रा आना
  • पेट में गर्मी अधिक रहना
  • हिलाने के उपरान्त हीनभावना

हिलाने के फायदे और नुकसान

जैसा कि इस लेख में हमने आपको पहले भी बताया है कि यदि आप सीमित मात्रा में हिलाकर कर अपना वीर्य स्खलित कर रहे हो तो यह आपके शरीर के लिए फायदेमंद है परन्तु इसके विपरीत यदि आपने मुठ मारने को अपनी हैबिट बना लिया है तो यह आपको शीरीरिक व मानसिक समस्याओं से ग्रसित कर सकता है। आग हम आपको बतायेंगे कि हिलाने के क्या फायदे हैं और हिलाने से क्या नुकसान हो सकते हैं।

क्या हस्तमैथुन से शारीरिक कमजोरी आती है

मुठ मारने के फायदे

  • यदि आप किसी प्रकार की चिंता या थकान से घिरे हुये हो अपने आप को इंस्टेंट इस तनाव से मुक्ति चाहते हो तो आप हस्तमैथुन कर अपने दिमाग और शरीर को रिलैक्स कर सकते हो और मुठ मारने के बाद आपको अच्छी नींद भी आयेगी।
  • कभी कभी मुठ मारने से एकाग्रता बढती है।
  • मास्टरबेशन से ब्लड सर्क्यूलेशन भी ठीक रहता है।
  • यौन उत्तेजना शांत होती है।
  • सेक्स टाइमिंग में सुधार

मुठ मारने के नुकसान

  • ज्यादा मुठ मारने से पेनिस / वजाइना में सूजन आ सकती है। जिससे आपको अपने जननांगों में दर्द का अनुभव हो सकता है तथा मूत्र विसर्जन के समय भी कष्ट हो सकता है।
  • ज्यादा हिलाने से आपको हस्तमैथुन की लत लग सकती है तथा आपके दिमाग में हर समय मुठ मारने के ख्याल आते हैं।
  • मास्टरबेसन करने से शरीर में थकान होती है, नींद अधिक आने लगती है तथा याददाश्त को भी कम करता है।
  • मुठ मारने से आपके शरीर से जरूरी पोषक तत्व निकल जाते हैं।
  • अधिक हिलाने से वीर्य पतला हो जाता है।
  • बचपन से हिलाने से लिंग पतला व छोटा रह जाता है।
  • मास्टरबेशन अधिक करने के कारण ED की समस्या भी पुरुषों एवं महिलाओं में देखी गयी है।
  • अधिक मुठ मारने के कारण प्रजनन क्षमता कम हो जाती है।
  • अधिक वीर्य रूस्खलित करने से वीर्य में शुक्राणुओं की कमी होना भी आम बात है।
  • अधिक मुठ मारने से लिंग की नशे ढीली हो जाती हैं तथा सेक्स के समय सही से तनाव नहीं आता है।
  • पुरुष जो अधिक मुठ मारते हैं उन्हे अपनी महिला मित्र के साथ सेक्स करते समय वह मजा नहीं आता जितना हस्तमैथुन में उसे आता है।

See Also : पतंजलि नाईट फॉल मेडिसिन | स्वप्नदोष से पाएँ तुरंत निजात

मुठ मारने से आई कमजोरी का घरेलू औषधि एवं उपाय बताइए

  • यदि आप यदा कदा मुट्ठ मारते हैं और आपको शारीरिक कमजोरी महसूस हो रही है तो हस्तमैथुन के बाद 2 घण्टे की नींद आपको बेहतर फील करायेगी।
  • रात्रि में सोने से पहले एक चम्मच शहद में आधा चम्मच मिलाकर चाटने से हस्तमैथुन के कारण होने वाली कमजोरी से राहत मिलती है।
  • रात्रि में सोने से पूर्व नियमित तौर पर एक गिलास दूध में 1 चम्मच हल्दी मिलाकर पीना भी आपको मुठ मारने के बाद आई कमजोरी में आराम प्रदान करता है।
  • यदि आपने अभी हिलाया है और आपको अत्यधिक कमजोरी महसूस हो रही है तो एक गिलास गुनगुने पानी में एक चम्मच हल्दी मिलाकर पीलें इससे आपको तुरंत शक्ति प्राप्त होगी।
  • अश्वगंधा टेबलेट या चूर्ण का प्रयोग भी मास्टरबेशन के बाद होने वाली कमजोरी में आपको आराम देता है साथ ही अश्वगंधा को अन्य यौन विकारो के इलाज में प्रयोग किया जाता रहा है। आप प्रतिदन रात में गुनगुने दूध के साथ अश्वगंंधा टेबलेट का नियमित सेवन कर सकते हैं।
  •  केला एक इंसटेंट एनर्जी देने वाला फल है, यदि आपको मुठ मारने के बाद कमजोरी फील हो रही है तो आप केले का सेवन कर मर्दाना ताकत दोबारा प्राप्त कर सकते हैं। इंसटेंट एनर्जी प्राप्त करने के लिए आप प्रतिदिन प्रातः एवं साय दो केले शहद के साथ आये और बाद में दूध पी लें।
  • बादाम वीर्यवर्धक, शक्ति वर्धक, बुद्धि वर्धक एवं स्टेमिना वर्धक ड्राइ फ्रूट है। आप रात को 5 से 10 बादाम पानी में गला कर रख दें और प्रातः इन भीगे हुए बादाम का सेवन दूध के साथ करें। यह विधि आपको हस्तमैथुन के बाद आयी कमजोरी को दूर करने में मदद करेगी साथ ही आपके शरीर में वीर्य की वृद्धि करेगा।
  • शास्त्रों में अदरक को हस्तमैथुन की लगी बुरी आदत को छुटाने में प्राकृतिक रूप से कारगर बताया गया है। आप अदरक छोटे टुकडे कर रख लें और जब भी आपको हस्तमैथुन करने का मन करे तो इस कटे हुए अदरक का एक छोटा टुकडा अपने मुँह में डाल ले इससे आपकी मुठ मारने की इच्छा में कमी आयेगी।
  • यदि आपको मुठ मारने की गंदी आदत की लत लग गयी है तो प्रतिदिन 3 ग्राम जामुन की गुठली का चूर्ण लेकर पानी के साथ इस चूर्ण का सेवन करें। इससे आपके मुठ मारने के कारण पेट में आयी गर्मी शांत होगी तथा आपकी शीघ्रपतन एवं धातु रोग की समस्या से भी मुक्ति मिलेगी।
  • डाक्टर्स द्वारा एक सेब का सेवन शरीर के लिए लाभदायक बताया गया है। यदि आप प्रतिदिन एक सेब का सेवन करेंगे तो मास्टरबेशन के कारण हुई कमजोरी को दूर कर सकते हैं। सेब पोषक तत्व का भण्डार होता है। इसलिये इसके सेवन से वीर्य रूस्खलित होने के कारण शरीर से निकले तत्वों की पूर्ति हो जाती है।
  • खजूर का सेवन आपके शरीर में वीर्य वृद्धि करता है तथा मुठ मारने के बाद आई कमजोरी को दूर करने भी सहायक है। आप प्रतिदिन चार से पाँच खजूर का सेवन एक गिलास दूध के साथ करें इससे आपके शरीर में बल वृद्धि होती है तथा वजन भी बढ़ता है।
  • अपने भोजन में स्प्राउट्स (अंकुरित) भोजन को शामिल करके भी आप बार बार हिलाने की आदत से आयी कमजोरी से मुक्ति प्राप्त कर सकते हैं।
  • हस्तमैथुन करने से लिंग की नसे ढीली हो जाती हैं। लिंग की नशों की कमजोरी को दूर करने के लिए प्रतिदिन प्रातः खाली पेट लहसन की एक से दो कच्ची पुति का सेवन कर सकते हैं और लिंग में तनाव बढा सकते हैं।

हस्तमैथुन से बचने के उपाय

मुठ मारने की आदत पर कंट्रोल करना आपके आस पास भौतिक एवं मानसिक वातावरण पर निर्भर करता है। यदि आप अपनी ज्ञानेन्द्रियों को नियंत्रित रखने में निपुण हैं तो आप अपने दिमाग में आ रही यौन इच्छाओं पर कंट्रोल कर इस बुरी लत से आसानी से छुटकारा पा सकते हैं। जब कभी आपको यौन उत्तेजना हो तो आप अपने दिमाग को किसी अन्य कार्य में व्यस्त कर लें।

हस्‍तमैथुन की कमजोरी दूर करने के अन्‍य उपाय

  • अश्लील सामग्री से अपने आप को दूर कर लें।
  • प्रतिदिन योग, आसन, व्यायाम को अपने दिनचर्या का अहम हिस्सा बनायें।
  • मांसाहार के सेवन पर भी नियंत्रण करें।
  • तनाव मुक्त रहें।
  • प्रतिदिन पूजा अर्चना करना प्रारम्भ करें।
  • प्रतिदिन क्रैनबैरी, नारंगी के जूस का सेवन भी लाभदायक होता है।

Read Also : 2 घंटे तक पानी नहीं निकलेगा | आजमाएं ये नुश्खे

अकसर पूछे जाने वाले प्रश्न

प्रश्न- क्या हस्तमैथुन करने से शरीर में कमजोरी आती है?

उत्तर- जैसा कि हमने पहले भी बताया कि सीमित मात्रा में मुठ मारना आपके शरीर के लिए लाभदायक है परन्तु इसकी अति आपको शीरीरिक एवं मानसिक रूप से बीमार बना सकता है।

प्रश्न- रोजाना हिलाने से वीर्य में क्या परेशानी आती है?

उत्तर- प्रतिदिन हिलाने से आपके वीर्य से शुक्राणु की मात्रा कम होती है, वीर्य पतला हो जाता है, भरपूर मात्रा में शरीर द्वारा वीर्य का निर्माण होना रूक जाता है तथा साथ ही आपको भविष्य में पिता बनने में भी समस्या आ सकती है।

Leave a Comment