पेनिस पर सरसों के तेल के फायदे और नुकसान जानें

भारत में सामान्य रूप से सरसों के तेल का प्रयोग खाने के रूप में किया जाता है सरसों के तेल के द्वारा विभिन्न प्रकार के खाद्य पदार्थ तैयार किए जाते हैं। किन्तु सरसों के तेल द्वारा कुछ कुछ अन्य प्रकार के कार्य किए जाते हैं। जैसे शरीर को आराम देने के लिए सरसों के तेल की मालिश की जाती है तथा बालों की सुरक्षा के लिए बालों को मजबूत बनाने के लिए सरसों के तेल का प्रयोग किया जाता है।

सर दर्द की समस्या को दूर करने के लिए भी सरसों का तेल प्रयोग कितने लाया जाता है। इसी प्रकार पेनिस पर सरसों के तेल की मसाज करने से पेनिस पर सरसों के तेल के फायदे बहुत अधिक मात्रा में होते हैं। आज के इस लेख में पेनिस पर सरसों के तेल की मसाज करने की जानकारी दी जा रही है जिसके द्वारा सरसों के तेल से आप अपने पेनिस हो मजबूत बना सकते हैं।

भारत एक कृषि प्रधान देश है इसलिए भारत में प्रत्येक प्रकार की फसल पूरे देश में कहीं ना कहीं पर्याप्त मात्रा में होती है। इसी प्रकार भारत में सरसों की फसल भी एक मुख्य फसल है, जिसका प्रयोग भारतीयों द्वारा भोजन निर्माण में तेल के रूप में किया जाता है।

सरसों के तेल में विभिन्न प्रकार के खनिज लवण तथा विटामिन उपलब्ध होते हैं, जो हमारे शरीर की त्वचा को पोषण प्रदान करते हैं, साथ ही इसके द्वारा मालिश करने से हमारे शरीर की मांसपेशियां मजबूत होती है। जिन व्यक्तियों के पेनिस में कमजोरी होती है, जिसकी वजह से उनके लिंग में पर्याप्त तनाव नहीं आता है उनको अपने लिंग पर सरसों के तेल द्वारा मालिश करने की सलाह दी जाती है। 

पेनिस पर सरसों के तेल के फायदे

पेनिस पर सरसों के तेल के फायदे

सरसों के तेल द्वारा शरीर के किसी भी अंग में मालिश करने के कारण उस अंग में रक्त संचार सामान्य मात्रा में होने लगता है तथा मालिश करने के पश्चात वहां की मांसपेशियां मजबूत हो जाती हैं। अतः लिंग में ढीलेपन की समस्या है, जिसके कारण लिंग में पर्याप्त तनाव नहीं आता है। लिंग में तनाव ना आने के कारण पुरुष महिला साथी के साथ सेक्स किया करने में असमर्थ होते हैं। ऐसे में पुरुषों को विभिन्न परिस्थितियों में सेक्स क्रिया के समय शर्मिंदगी का सामना करना पड़ता है, तथा उनके सेक्स संबंध खराब हो जाते हैं।

जिसके कारण उनके जीवन पर विपरीत प्रभाव पड़ते हैं। इन सभी समस्याओं से बचने के लिए लिंग का पर्याप्त मात्रा में लंबा मोटा तथा तनाव मुक्त होना आवश्यक होता है। सरसों के तेल द्वारा इन समस्याओं से राहत पाई जा सकती है। जिन व्यक्तियों में लिंग की कमजोर नसों के कारण विभिन्न प्रकार की समस्या होती हैं, उनको दैनिक रूप से सरसों के तेल द्वारा लिंग मसाज करनी चाहिए।

लिंग पर दैनिक रूप से सरसों के तेल की मसाज करने के कारण लिंग में होने वाली विभिन्न प्रकार की समस्या समाप्त हो जाती हैं, तथा पुरुष पर्याप्त मात्रा में सामान्य रूप से सेक्स क्रिया करने में समर्थ होता है। जिसके कारण महिला जीवनसाथी को पर्याप्त सेक्स शारीरिक सुख मिलता है, और पुरुष तथा महिला दोनों को सेक्स संतुष्टि प्राप्त होती है, जिसके कारण उनका जीवन खुश हाल रहता है। पेनिस पर सरसों के तेल के फायदे निम्नलिखित हैं

  • पेनिस में ब्लड सरकुलेशन को बढ़ाता है।
  • पेनिस ज्यादा समय तक खड़ा रहता है।
  • जल्दी डिस्चार्ज नहीं होता।
  • पेनिस का आकार बढ़ जाता है।
  • सेक्स समस्याओं से बचाता है।
  • स्किन क्रीम की तरह भी काम करता है।
  • मॉइस्चराइज़र के लिए उपयोग किया जाता है।
  • बैक्टीरियल तथा फंगल इंफेक्शन से बचाता है।
  • पेनिस की उत्तेजना को बढ़ाता है।
  • सेक्स टाइम को बढ़ाता है।

पेनिस में ब्लड सरकुलेशन को बढ़ाता है

पेनिस में ब्लड सरकुलेशन को बढ़ाता है

सरसों के तेल द्वारा जब पेनिस की मसाज की जाती है, तो पेनिस की नसों में ब्लड सरकुलेशन बढ़ जाता है। जिसके कारण पेनिस में पर्याप्त ब्लड पहुंचता है। पर्याप्त ब्लड पहुंचने के कारण पेनिस में अत्यधिक तनाव हो जाता है। जिसके कारण आता है पुरुष महिला साथी के साथ सेक्स क्रिया करने में समर्थ होता है तथा ब्लड सरकुलेशन होने के कारण लिंग में पर्याप्त तनाव आ जाता है, जिसके कारण लिंग का साइज बढ़ जाता है, जिसके कारण सेक्स क्रिया करते समय महिला तथा पुरुष दोनों को ही पर्याप्त आनंद मिलता है।

जिसके कारण उनका वैवाहिक जीवन तथा सेक्सुअल लाइफ खुशहाल पूर्वक व्यतीत होती है। इसलिए लिंग की नसों में ब्लड सरकुलेशन सामान्य बनाए रखने के लिए दैनिक रूप से लिंग पर सरसों के तेल द्वारा मालिश करनी चाहिए। जिससे लिंग की सभी समस्याएं समाप्त हो जाती हैं, और व्यक्ति अपना खुशहाल जीवन व्यतीत करता है।

पेनिस ज्यादा समय तक खड़ा रहता है

पेनिस ज्यादा समय तक खड़ा रहता है

पेनिस पर सरसों के तेल द्वारा मसाज करने पेनिस की नसें मजबूत हो जाते हैं, जिसके कारण लिंग से शीघ्रपतन तथा शीघ्र स्खलन जैसी समस्याएं नहीं होती हैं, क्योंकि पेनिस की नसें मजबूत हो जाने के कारण पेनिस मजबूत हो जाता है, तथा जिससे सेक्स करने की टाइमिंग बढ़ जाती है। क्योंकि पेनिस में तनाव अधिक समय तक रहता है पेनिस पर्याप्त समय तक तनाव रहने के कारण महिला तथा पुरुष दोनों को पर्याप्त सेक्स आनंद मिलता है।

जिसके कारण वह एक दूसरे को अत्यधिक प्रेम करते हैं। और एक दूसरे की सेक्स जरूरत को पूरा करते हैं महिलाओं में सेक्स की जरूरत पूरा होने के कारण वह प्रसन्नचित रहती हैं, तथा किसी भी प्रकार की मानसिक समस्या का शिकार नहीं होती हैं। अतः सरसों के तेल द्वारा लिंग पर मसाज करने से पेनिस अधिक देर तक टाइट खड़ा रहता है, जो हमारी सेक्स टाइमिंग को बढ़ाता है

जल्दी डिस्चार्ज नहीं होता

जल्दी डिस्चार्ज नहीं होता

सरसों के तेल द्वारा लिंग की दैनिक रूप से मसाज करने के कारण लिंग की नसें मजबूत हो जाती हैं। जिसके कारण लिंग टाइट तथा बड़ा हो जाता है। लिंग में मजबूती हो जाने के कारण सेक्स क्रिया करते समय पुरुष जल्दी डिस्चार्ज नहीं होते हैं। क्योंकि उनके लिंग में पर्याप्त शक्ति होती है। लिंग की नसें मजबूत होती है, जिससे उन्हें घर्षण का आभास कम होता है। लिंग पर कम घर्षण का आभास होने के कारण लिंग द्वारा डिस्चार्ज नहीं हो पाता है। अर्थात लिंग की नसों में मजबूती होने के कारण लिंग से वीर्य जल्दी नहीं डिस्चार्ज होता है।

जिसके कारण पुरुष शीघ्रपतन जैसी समस्याओं से बचे रहते हैं। इन समस्याओं से बचे रहने के कारण उनका जीवन आनंद से भरा होता है, जिसके कारण वे अपने महिला जीवनसाथी को ही सेक्स क्रिया में संतुष्ट रखते हैं, तथा दोनों महिला पुरुष सिर्फ के कारण होने वाली मानसिक समस्याओं से बचे रहते हैं। वीर्य में पर्याप्त मात्रा में शुक्राणु उपस्थित होने के कारण वीर्य गाढ़ा होता है।

जिसके कारण भी वीर्यपात जल्दी नहीं होता है। अतः आप कह सकते हैं कि दैनिक रूप से लिंग पर सरसों के तेल द्वारा मसाज करने से वीर्य गाढ़ा हो जाता है, तथा डिस्चार्ज जल्दी नहीं होता है।

सेक्स समस्याओं से बचाता है

लिंग की कमजोरी के कारण पुरुषों में विभिन्न प्रकार की सेक्स समस्याएं हो जाती हैं। अतः पेनिस की कमजोरी को दूर करने के लिए पेनिस पर दैनिक रूप से सरसों के तेल द्वारा मालिश करना चाहिए। जिससे पेनिस मजबूत होता है पेनिस मजबूत होने के कारण पुरुषों में होने वाली विभिन्न प्रकार की सेक्स जैसे शीघ्रपतन, लिंग में तनाव की कमी, लिंग की नसों में कमजोरी, लिंग का खड़ा ना होना आदि समस्याएं नहीं होती हैं।

यह सभी समस्याएं ना होने के कारण पुरुषों की सेक्स लाइफ बेहतर हो जाती है तथा वह अपने महिला जीवन साथी के साथ भरपूर सेक्स जीवन का आनंद उठाते हैं तथा अपने जीवन में खुशहाल रहते हैं। अतः समस्याओं से बचने के लिए दैनिक रूप से लिंग को सरसों के तेल के द्वारा मसाज करना चाहिए, जो हमें होने वाली विभिन्न प्रकार की अन्य समस्याओं से भी बचाता है, तथा हमारे लिंग को मजबूत करता है।

स्किन क्रीम की तरह भी काम करता है

स्किन में विभिन्न प्रकार के समस्याओं से बचने के लिए हम अपने स्किन पर विभिन्न प्रकार की क्रीम का प्रयोग करते हैं। यह क्रीम विभिन्न प्रकार के कॉस्मेटिक पदार्थों से बनी होती हैं, जो हमारी त्वचा के लिए बहुत ही नुकसानदायक होती हैं। कभी-कभी इन क्रीम का प्रयोग करने के कारण हमारे शरीर की स्क्रीन खराब हो जाती है। कई लोग सेक्स करते समय चिकनाई के रूप में स्किन क्रीम का प्रयोग करते हैं, जिससे उनके लिंग पर विभिन्न प्रकार की समस्याएं हो जाती हैं।

इन सभी समस्याओं से बचने के लिए लिंग पर स्किन क्रीम के रूप में सरसों के तेल का प्रयोग किया जा सकता है। जिससे हमारे लिंग पर किसी प्रकार की समस्या नहीं होती है, साथ ही साथ यह हमारे लिंग की स्किन को सामान्य बनाए रखता है। लिंग के अलावा पूरे शरीर की स्किन पर सरसों के तेल का प्रयोग स्किन क्रीम की तरह किया जा सकता है, क्योंकि इसमें विटामिन डी के साथ-साथ अन्य मॉइस्चराइज़र गुण भी पाए जाते हैं, जो हमारी स्किन को स्वस्थ रखते हैं। 

मॉइस्चराइज़र के लिए उपयोग किया जाता है

मॉइस्चराइज़र के लिए उपयोग किया जाता है

सरसों का तेल एक प्राकृतिक मॉइस्चराइज़र की तरह प्रयोग किया जाता है, क्योंकि सरसों के तेल में पर्याप्त मात्रा में मॉइस्चराइज़र  के गुण पाए जाते हैं, जो हमारे स्किन को मॉइस्चराइज़ रखते हैं जिसके कारण हमारी स्किन नम बनी रहती है। और हमारी त्वचा में ड्राइनेस नहीं आती है। सर्दियों में सामान्य रूप से  त्वचा शुष्क हो जाती है, जिसके कारण हमारी त्वचा पर विभिन्न प्रकार के रोग होने लगते हैं, तथा ड्राइनेस के कारण हमारी त्वचा पर खुजली होने लगती है।

इन सभी समस्याओं से बचने के लिए त्वचा पर रात को सोते समय सरसों के तेल द्वारा मालिश की जा सकती है, जो हमारी त्वचा को मॉइस्चराइज़र करने में मदद करता है। जिससे हमारे शरीर की त्वचा शुष्क नहीं रहती है और विटामिन सी तथा विटामिन इ होने के कारण त्वचा को सरसों के तेल द्वारा पर्याप्त पोषण मिलता है।

अतः स्किन को शुष्क होने से बचाने के लिए सरसों के तेल का प्रयोग मॉइस्चराइज़र  के रूप में किया जाता है, जो हमारी त्वचा के लिए बहुत ही लाभदायक होता है।

बैक्टीरियल तथा फंगल इंफेक्शन से बचाता है

बैक्टीरियल तथा फंगल इंफेक्शन से बचाता है

सरसों के तेल में पर्याप्त मात्रा में एंटीसेप्टिक गुण पाए जाते हैं, जिसके कारण यह में शरीर पर होने वाले बैक्टीरिया के आक्रमण से बचाता है। शरीर पर होने वाले बैक्टीरिया के आक्रमण से बचने के लिए दैनिक रूप से प्रभावित क्षेत्र पर सरसों के तेल का लेप किया जा सकता है। यदि शरीर पर बैक्टीरियल या फंगल इंफेक्शन के कारण खुजली तथा अन्य समस्याएं होती हैं, उनको दूर करने के लिए  सरसों के तेल का प्रयोग किया जा सकता है।

कभी-कभी हमारे शरीर पर अत्यधिक ड्राइनेस होने के कारण खुजली होने लगती है। जिसे दूर करने के लिए सरसों का तेल प्रयोग में लाया जा सकता है। इसके साथ साथ पेनिस में होने वाले फंगल इन्फेक्शन से बचने के लिए दैनिक रूप से पेनिस को सरसों के तेल द्वारा मसाज करना चाहिए पेनिस पर सरसों के तेल के फायदे अनेक होते हैं।

पेनिस की उत्तेजना को बढ़ाता है

पेनिस पर सरसों के तेल द्वारा दैनिक रूप से मसाज करने के कारण पेनिस की नसें मजबूत हो जाती हैं तथा पेनिस की नसों में ब्लड सरकुलेशन सामान्य होगा, जिसके कारण पेनिस में पर्याप्त मात्रा में उत्तेजना होती है। पेनिस में पर्याप्त मात्रा में तनाव आने के कारण सभी प्रकार की सेक्स समस्याएं समाप्त हो जाती हैं, क्योंकि पेनिस में तनाव ना आने के कारण ही सभी समस्याएं होती हैं।

अतः जिन व्यक्तियों के पेनिस में पर्याप्त उत्तेजना नहीं आती है, हमको दैनिक रूप से सरसों के तेल द्वारा पेनिस की मसाज करनी चाहिए जो पेनिस की नसों को मजबूत बनाता है तथा पेनिस में उत्तेजना को बढ़ाता है। जिसके कारण सभी सेक्स समस्याएं दूर हो जाती हैं और व्यक्ति खुशहाल जिंदगी के साथ सेक्स जीवन का आनंद लेता है।

सेक्स टाइम को बढ़ाता है

जैसा कि उपरोक्त बताया गया है कि सरसों के तेल द्वारा पेनिस की दैनिक रूप से मसाज करने के कारण पेनिस की नसों में तनाव आने लगता है तथा पेनिस की नसों की कमजोरी दूर हो जाती है, तथा अन्य सेक्स समस्याएं दूर हो जाती हैं। जिसके कारण एक पुरुष महिला के साथ अत्यधिक समय तक सेक्स क्रिया करने में समर्थ होता है, क्योंकि पेनिस की नसों में मजबूती होने के कारण शीघ्रपतन की समस्या नहीं होती है। शीघ्रपतन की समस्या ना होने के कारण पुरुष की सेक्स टाइमिंग बढ़ जाती है, क्योंकि शीघ्रपतन में  पुरुष के लिंग से वीर्य जल्दी निकल जाता है

सरसों के तेल द्वारा दैनिक रूप से मालिश करने के कारण पुरुष के लिंग से वीर्य पात जल्दी नहीं होता है, जिसके फलस्वरूप पुरुषों में सेक्स टाइमिंग बढ़ जाती है और वह अत्यधिक समय तक महिला जीवन साथी के साथ सेक्स क्रिया करके उसे संतुष्ट करते हैं और सेक्स लाइफ का आनंद लेते हैं।

पेनिस पर सरसों के तेल की मालिश कैसे करें?

पेनिस पर सरसों के तेल की मालिश कैसे करें?

​जैसा कि हम जानते हैं कि पेनिस पर सरसों के तेल द्वारा मालिश करने से पेनिस में होने वाली सभी समस्यायें समाप्त हो जाती है  लेकिन सबसे पहले हमें यह जानना चाहिए। लिंग पर सरसों का तेल द्वारा मसाज करने का सही तरीका क्या है जिससे हम सरसों के तेल द्वारा लिंग की मसाज करके होने वाली विभिन्न प्रकार की सेक्स समस्याओं को दूर कर सकते हैं। लिंग पर सही मसाज करने का तरीका निम्नलिखित होता है

  • लिंग को कैसे सॉफ्ट साबुन से धो लेना चाहिए।
  • धुलने के पश्चात लिंग को किसी कपड़े की सहायता से पानी को सुखा लेना चाहिए।
  • लिंग पर मसाज करने के लिए सरसों के तेल को हाथ में लेकर लिंग पर लगाना चाहिए।
  • लिंग पर सरसों का तेल लगाने से पहले पेनिस फॉरस्किन को पीछे कर लेना चाहिए।
  • पेनिस पर अंगुलियों और अंगूठे के सहायता से धीरे-धीरे मसाज करना चाहिए।
  • मसाज प्रारंभ करने के पश्चात लिंग में तनाव आने लगता है जिससे यह पता चलता है कि लिंग में ब्लड सरकुलेशन हो रहा है।
  • जब लिंग में पर्याप्त तनाव आ जाता है तो लिंग की अच्छे से मसाज करनी चाहिए लेकिन ध्यान रहे उस समय हस्तमैथुन नहीं करना चाहिए। 
  • इस दौरान हस्तमैथुन करना शुरू कर देने से जब आप स्खलित हो जाते हैं तो ब्लड तेजी से लिंग के बाहर जाने लगता है, जिससे मालिश का ज्यादा फायदा नहीं होता।
  • लगातार लगभग 5 मिनट तक पेनिस पर सरसों के तेल द्वारा मालिश करनी चाहिए।
  • पेनिस की मालिश हमेशा हल्के हाथों से करें, प्यार से धीरे-धीरे।
  • पेनिस के साथ कभी भी जोर जबरदस्ती या खींचातानी करने का प्रयास ना करें।
  • पेनिस पर किसी भी प्रकार की चोट लगने पर तुरंत डॉक्टर से सलाह लें।
  • पेनिस को टेढ़ा मेढ़ा बिल्कुल ना करें।
  • कभी भी गर्म सरसों के तेल के द्वारा पेनिस की मसाज नहीं करनी चाहिए।

पेनिस पर सरसों के तेल के नुकसान

वैसे तो देखा जाए कि सामान्य रूप से सरसों के तेल द्वारा मसाज करने से पेनिस को कोई भी नुकसान नहीं होता है। यह लोगों का भ्रम होता है कि सरसों के तेल द्वारा पेनिस को मसाज करने से पेनिस को नुकसान हो सकता है। किंतु मसाज के समय सावधानी बरतने पर पेनिस को कुछ नुकसान हो सकते हैं। जिन से बचने के लिए पेनिस पर सावधानीपूर्वक मसाज करनी चाहिए। पेनिस को आसावधानीपूर्वक मसाज करने पर निम्नलिखित नुकसान हो सकते हैं

  • उत्तेजित होने पर कभी भी हस्तमैथुन ना करें नहीं तो इससे लिंग की नसें कमजोर हो जाती।
  • अत्यधिक गर्म सरसों का तेल प्रयोग ना करें नहीं तो इससे पेनिस स्किन जल सकती है।
  • अत्यधिक तेजी से नहीं रगड़ना चाहिए की पेनिस की स्कीम को नुकसान पहुंचे।
  • मसाज करते समय पेनिस को अत्यधिक दबाना नहीं चाहिए।
  • पेनिस पर सरसों के तेल से मसाज से पेनिस पर लालिमा आ सकती है क्योंकि इस पर कुछ लोगों को एलर्जी होती है।

लिंग पर कौन सा सरसों का तेल लगाना चाहिए?

लिंग पर सरसों के तेल द्वारा मालिश करने की बात सामने आती है तो लोगों के दिमाग में सबसे पहले यह प्रश्न आता है कि किस सरसों के तेल के द्वारा लिंग की मसाज की जाएगी क्योंकि आज कल बाजारों में उपलब्ध होने वाला तेल अत्यधिक मिलावटी होता है। जिसमें विभिन्न प्रकार के अन्य तेल भी मिले होते हैं।

इसीलिए लिंग के मसाज करने के लिए तेल लेते समय बहुत सावधानी बरतनी चाहिए। यदि हो सके तो चक्की द्वारा सरसों से सरसों का तेल निकलवा कर शुद्ध तेल का प्रयोग मसाज के लिए करना चाहिए। जिससे हमारे स्किन पर तेल का विपरीत प्रभाव नहीं पड़ता है, और हमारी स्किन स्वस्थ रहती है तथा तेल द्वारा लिंग के मसाज करने से लिंग की नसें मजबूत होती है। इसलिए हमेशा 100%  शुद्ध सरसों का तेल ही प्रयोग करना चाहिए। साथ ही साथ भरोसेमंद ब्रांड का तेल ही मसाज के लिए प्रयोग करना चाहिए।

सरसों के तेल से लिंग की मालिश करने का समय

सरसों के तेल से लिंग की मालिश करने का समय

सरसों के तेल द्वारा लिंग की मालिश करने के लिए कोई भी समय उपयुक्त हो सकता है। जिस समय आप फ्री रहते हैं, उस समय आप लिंग पर सरसों के तेल द्वारा मसाज कर सकते हैं रात को सोने से पहले यदि लिंग पर सरसों के तेल द्वारा मसाज की जाती है। इसलिए समय सबसे उपयुक्त माना जाता है, क्योंकि इस समय पूरा शरीर आराम की स्थिति में होता है।

अतः हमारी मांसपेशियां इस समय अधिक सक्रियता से कार्य करती हैं। इस समय मांसपेशियों को पोषण मिलने के कारण उनकी सक्रियता बढ़ जाती है, और वह अत्यधिक मजबूत हो जाती हैं। अतः रात को सोते समय सरसों के तेल द्वारा लिंग की मसाज करना उपयुक्त होता है। सरसों के तेल द्वारा 5 से 7 मिनट लिंग की मसाज करनी चाहिए अधिक देर तक करने के कारण वीर्यपात हो सकता है जो आपकी सेहत के लिए नुकसानदायक होगा। लिंग की मसाज सड़कों के द्वारा करते समय वीर और ना होने पाए इसका पर्याप्त ध्यान रखना चाहिए। 

निष्कर्ष​

लिंग की नसों को मजबूत बनाने के लिए तथा लिंग में होने वाली समस्याओं को दूर करने के लिए दैनिक रूप से सरसों के तेल के द्वारा मसाज करना बहुत ही लाभदायक माना गया है। उपरोक्त लेख में पेनिस पर सरसों के तेल के फायदे तथा नुकसान के बारे में बताया गया है, जिसको अध्ययन के पश्चात आप सरसों के तेल से होने वाली फायदे तथा नुकसान की जानकारी हो जाएगी, जो आपके स्वास्थ्य के लिए तथा आपके लिंग के लिए बहुत ही लाभदायक है। पेनिस की नसों की कमजोरी तथा पेनिस में होने वाली अन्य समस्याओं को दूर करने के लिए दैनिक रूप से सरसों के तेल द्वारा लिंग की मसाज करनी चाहिए। इसलिए सरसों का तेल हमारे लिंग के लिए बहुत ही फायदेमंद है जो विभिन्न समस्याओं को दूर करता है।

FAQ

क्या लिंग पर सरसों का तेल लगाने से वीर्य और शुक्राणु बढ़ते हैं?

जी हां सरसों का तेल लगाने से वीर्य में शुक्राणु की संख्या बढ़ती है क्योंकि सरसों का तेल लिंग के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है इसमें विभिन्न प्रकार के विटामिंस पाए जाते हैं, तथा इसमें एंटीसेप्टिक और एंटीबायोटिक के गुण ही पाए जाते हैं जो हमारे शरीर को विभिन्न प्रकार के रोगों से बचाते हैं, तथा हमारे शरीर को शक्ति प्रदान करते हैं। शरीर में पर्याप्त मात्रा में शक्ति होने के कारण शुक्राणु निर्माण तेजी से होता है जिससे वीर्य में शुक्राणु बढ़ जाते हैं।

क्या वाकई में सरसों का तेल लिंग को बड़ा कर सकता है​?

सरसों के तेल में लिंग की नसों को मजबूत करने की क्षमता होती है। अर्थात लिंग की कमजोर नसों को रिपेयर करके उन्हें मजबूत बनाने की क्षमता सरसों के तेल में पर्याप्त मात्रा में पाई जाती है। सरसों के तेल द्वारा लिंग की मालिश दैनिक रूप से की जाती है, तो लिंग की नसों में आई कमजोरी दूर हो जाती है। जिसके कारण लिंग का विकास होने लगता है। अतः दैनिक रूप से सरसों के तेल द्वारा मसाज करने से लिंग का आकार बड़ा हो जाता है।

पेनिस पर कौन सा तेल लगाना चाहिए?

पेनिस को मजबूत बनाने के लिए पेनिस के कमजोर नसों को मजबूत बनाने के लिए दैनिक रूप से सरसों के तेल द्वारा पेनिस की मसाज करनी चाहिए। जिससे पेनिस में आई कमजोरी दूर हो जाती है, और लिंग की नसें मजबूत हो जाती हैं। नशे मजबूत हो जाने के कारण लिंग में पर्याप्त तनाव आता है, तथा सेक्स क्रिया लंबे समय तक चलती है।

Ling ki malish kaise kiya jaaye?

लिंग की मालिश करने के तरीके को उपरोक्त लेख में वर्णन किया गया है इसके अध्ययन के पश्चात आपको लिंग की मालिश कैसे करना है। इसके पर्याप्त जानकारी उपलब्ध हो जाएगी। अतः इसकी जानकारी के लिए आपको उपरोक्त लेख के अध्ययन की आवश्यकता है। सरसों के तेल द्वारा लिंग की मालिश करने से तरीके को उपरोक्त लेख में वर्णन किया गया है। जिसे बहुत ही आसान विधि से ही घर पर ही सरसों के तेल द्वारा लिंग की मालिश कर सकते हैं।

Leave a Comment