Sex Kaise Kare? – सेक्स करने का सही तरीका

क्या आप भी जानना चाहते हैं कि सेक्स कैसे करते हैं? तो आप सही स्थान पर आये हैं। हम इस लेख के माध्यम से आपको सेक्स सम्बन्धी सभी जानकारिया साझा करेंगे। आप इस लेख को अंत तक अवश्य पढ़ें। सेक्स पृथ्वी पर विद्यमान सभी जीव जन्तु / मानव जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। सेक्स एक ऐसा शब्द है जिसको सुनते ही आपका मन उत्साह व रोमांच से भर जाता है। यदि आप पहली बार सेक्स करने की सोच रहे हैं तो आपके अन्दर काफी जिज्ञासा रहती है। सत्य यह भी है कि सेक्स शब्द का प्रभाव पहली बार सेक्स करने वाले जोडे और तो और कई बार सेक्स कर चुके जोडे पर समान ही रहता है।

सेक्स (योन गतिविधि) वह प्रक्रिया है जिसमें मानव अपनी यौन कामुकता का अनुभव व प्रकट करता है। सेक्स एक ऐसा विषय है जिसके सम्बन्ध में किसी के प्रश्नों का अंत आज तक नहीं हुआ है। जैसे कि कई लोग सुरक्षित यौन संबंध बनाने के तरीके खोजते हैं तो कुछ लोग सेक्स को रोमेंटिक करने के उपाय जानना चाहते हैं।अधिकांश कपल्स अपने द्वारा बनाये गये शारीरिक संबंधों को यादगार बनाना चाहते है, इसलिये विभिन्न सेक्स पोजीशन, सेक्स टॉयज, इंटीमेट वेयरेबल्स आदि के बारे में जानना चाहते हैं। विशेषज्ञों के अनुसार अधिकांश लोग सेक्स करने के तरीके को लेकर सबसे अधिक सवाल करते हैं। अतः इस लेख के माध्यम से हम आपको सेक्स करने के सही तरीका (Sex Karne Ka Sahi Tarika) क्या होता है के बारे में जानकारी देने का प्रयास करेंगे।

पहली बार सेक्स करना अधिकांश लोगों के लिए उनके जीवन का महत्वपूर्ण क्षण होता है। सेक्स आपको आपके तथा आपके साथी के शरीर की समझ प्रदान करता है। पहली बार सेक्स करने पर कपल्स अधिकतर हिचकिचाहट, शर्म व नरवसनेस महसूस करते हैं। संभोग के पलों को यादगार बनाने के लिए अपने साथी से खुलकर बात करना, फीलिंग्स शेयर करना और एक दूसरे को समय देना आवश्यक है।

सेक्स क्या होता है?

स्त्री और पुरुष के मध्य बनने वाले शारिरक संबंध (यौन संबंध) को संभोग या सेक्स का नाम दिया गया है। इस प्रक्रिया में स्त्री एवं पुरुष एक दूसरे को स्पर्श कर उत्तेजित करते हैं, उसके उपरान्त पुरुष अपना खडा हुआ लिंग (तना हुआ लिंग) महिला की योनि में डालकर अंदर बाहर करता है। अन्य शब्दों में हम कह सकते हैं कि पुरुष एवं स्त्री को यह प्रक्रिया एक आनन्द का अहसास कराती है एवं वंश वृद्धि में सहायता करती है।

सेक्स के प्रकार (Types of Sex)

सैक्स कैसे करे? जानने से पहले आपको सेक्स के प्रकार जानना भी आवश्यक है। सेक्स मुख्यतः परिवार की वृद्धि तथा चरम शारीरिक सुख प्राप्त करने के उद्देश्य से किया जाता है। हम आपको इस लेख में सेक्स के प्रकार की जानकारी दे रहे हैं।

Types of Sex

आउटर कोर्स – सेक्स के इस प्रकार में दो व्यक्ति शामिल होते हैं, जो एक दूसरे को हस्तमैथुन (Masturbate) कर आनन्द की अनुभूति कराते हैं। सेक्स के इस प्रकार में पुरुष अपने तने हुए लिंंग को योनि या गुदा में प्रवेश नहीं कराते हैं। Outer Course में योन संचारित रोग (STD) होने का खतरा रहता है परन्तु गर्भधारण का खतरा बहुत कम होता है।

इंटरकोर्स – सेक्स के इस प्रकार में भी दो व्यक्ति शामिल होते है, जो एक दूसरे को उत्तेजित करते हैं। उत्तेजना के उपरान्त पुरुष अपने पेनिस को स्त्री की वजाइना में डालकर सीमन निकालता है। Intercourse में अनचाहे गर्भ धारण तथा STD का खतरा अधिक रहता है। इंटरकोर्स को वजाइनल सेक्स (Vaginal Sex) के नाम से भी जाना जाता है। वजाइनल सेक्स को अधिक रोमांचक बनाने के लिए आप विभिन्न सेक्स पोजीशन का उपयोग कर सकते हैं।

ओरल सेक्स – सेक्स के इस प्रकार में भी दो व्यक्ति शामिल होते हैं तथा सेक्स के इस प्रकार को मुख मैथुन के नाम से भी जाना जाता है। Oral Sex में स्त्री / पुरुष एक दूसरे को हाथों तथा मुँंह के द्वारा शारीरिक उत्तेजना व शारीरिक सुख प्रदान करते हैं। इसमें फैलैटो, क्यूनिलिंगस, ब्लो जाँब आदि प्रक्रिया शामिल हैं। ओरल सेक्स में गर्भ धारण का खतरा नहीं होता है परन्तु Sexual Transfer Disease होने का खतरा रहता है।

एनल सेक्स – सेक्स के इस प्रकार अप्राकृतिक माना जाता है, इस प्रक्रिया में भी दो लोग शामिल होते हैं। उत्तेजना के उपरान्त पुरुष अपने तने हुए पेनिस को अपने साथी की गुदा (मलद्वार) में प्रवेश कराता है। Anal Sex से गर्भवती होने का खतरा तो नहीं होता परन्तु योन चरित रोग व बबासीर (Piles) होने का खतरा बढ जाता है।

फिंगरिंग व हैंड जाँब – सेक्स के इस प्रकार में पुरुष महिला की योनि (Vagina) में उंगली डालता है, और अंदर बाहर करता है। इस प्रक्रिया में भी वजाइनल सेक्स की तरह की महिला की योनि से पानी निकलता है और महिला को मजा आता है। हैंड जाँब में महिला अपने हाथों की मदद से पुरुष के शिश्न को सहलाती है तथा ऊपर नीचे करते है। जिससे पुरुष का लिंग तन जाता है तथा इंटरकोर्स की तरह की महिला के हाथों के घर्षण से वीर्य निकलता है। इस प्रक्रिया में पुरुष को काफी मजा आता है।

हस्त मैथुन (Masturbation) – यदि आप अकेले हैं। आपका कोई साथी नहीं है, और आपका संभोग का मन बन रहा है। हस्तमैथुन विधि का प्रयोग कर आप कभी भी कहीं भी स्वयं मैथुन कर सकते हैं। हस्तमैथुन करने से न तो प्रेगनेंसी का खतरा रहता है ना ही किसी तरह के यौन चरित रोग का। 

हस्तमैथुन कला में पुरुष अपना लिंग अपने हाथ की मदद से सहलाता है और अपने मन में किसी स्त्री की इमेज बनाकर ऐसा महसूस करता है कि जैसे वह महिला को चोद रहा है। महिला की योनि में लिंग को अंदर बाहर कर रहा है। वही महिला अपनी योनि (Vagina) में अपनी उगलियों  या डिल्डो (सेक्स टॉयज) / वाइब्रेटर का प्रयोग कर महसूस करती हैं कि पुरुष का लिंग योनि में अंदर बाहर हो रहा है।

सेक्स कैसे करते हैं? Sex Kaise Kare

सेक्स कैसे करते हैं, इस प्रश्न का कोई सटीक उत्तर नहीं है। यदि आप सामान्य टाइप के सेक्स अर्थात सेक्सुअल इंटरकोर्स की बात कर रहे हैं, जिसमें पुरुष के लिंग तथा महिला की योनि का मिलन होता है। आसान भाषा मे कहा जाये तो स्त्री व पुरुष द्वारा चरम सुख प्राप्त करने के लिए जो शारीरिक संबंध बनाये जाते हैं उसे सैक्स कहते हैं। भारत में आज भी सेक्स के बारे में खुल कर बात करना पसंद नहीं करते हैं। संभोग को लेकर स्त्री व पुरुष के मन में कई तरह के प्रश्न चलते रहते हैं जैसे सुरक्षित शारीरिक संबंध बनाने के तरीके, सेक्स को रोमांचक बनाने के उपाय, सेक्स पोजीशन, सैक्स कैसे करें आदि।

Sex Kaise Kare s

वैसे तो शारीरिक संबंध बनाने का कोई तरीका नहीं है, यह एक प्राकृतिक क्रिया है जिसमें स्त्री व पुरुष आपसी रजामंदी के बाद एक दूसरे को चरम सुख प्राप्ति कराने के उद्देश्य से संभोग करते हैं। फिरभी अपने साथी के साथ संभोग करने से पूर्व यदि आप कुछ तैयारियाँ व सावधानिया अपनायें तो आपको एक अलग आनन्द की प्राप्ति होगी। यौन संबंध बनाने से पहले दोनो पार्टनर (स्त्री व पुरुष) का सेक्स को लेकर उत्साहित होना आवश्यक है। दोनों अपनी सहमति से शारीरिक संबंध बना रहे हों ना कि किसी प्रकार के दबाव में।

पहली बार सेक्स कर रहे हो?

यदि आप वर्जिन हो और आप पहली बार सेक्स करने जा रहे हो, तो सेक्स संबंध बनाने से पहले आपको कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए।

  • अपने साथी की भावनाओं को समझना आवश्यक है।
  • यदि यह आपका हनीमून है तो सेक्स करने में जल्दबाजी न करें।
  • अपने साथी से खुलकर बातें करें।
  • सेक्स शुरु करने से पहले एक दूसरे के साथ मस्ती करें।
  • एक दम से अपने साथी टूट न पडे फोरप्ले करना आवश्यक है।
  • यदि आपका पार्टनर खुले विचार का है तो सेक्स से पहले पोर्न मूवीज का सहारा ले सकते हैं।
  • सेक्स सेफ प्लेस पर करें।
  • सेक्स करने से पहले दोनो साथियों की सहमति आवश्यक है।
  • यदि आप गर्भधारण नहीं करना चाहते हैं तो कण्डोम या गर्भ निरोधक गोलियों का इस्तेमाल करें।

सेक्स करने के फायदे

सभी के जीवन में सेक्स एक महत्वपूर्ण प्रक्रिया है। हालांकि सेक्स को प्रजनन के लिए अहम माना जाता है परन्तु वर्तमान समय में लडका एवं लडकियाँ संभोग आनन्द एवं अंतरंगता के लिए भी करते हैं। सेक्स करने के अन्य लाभ भी हैं। जो निम्नलिखित हैं।

  • ब्लड प्रेशर को संतुलित रखता है।
  • दिल के लिए है लाभदायक।
  • कैलोरी बर्न करता है।
  • आनन्द एवं खुशी की अनुभूति होती है।
  • पुरुषों में प्रोस्टेट के विकार को कम करता है।
  • तनाव को कम करता है।
  • अच्छी नींद लाने में सहायक।
  • प्रजनन क्षमता में सुधार करता है।
  • सिर दर्द को दूर करता है।
  • इम्यून सिस्टम को बूस्ट करता है।
  • सेल्फ कोन्फीडेंस को बढाता है।

सेक्स करने से पहले की कुछ महत्वपूर्ण बातें

  • समान सहमति लेना (Mutual Consent) – सेक्स करने से पहले आपकी और आपके पार्टनर की आपसी सहमति होना अति आवश्यक है। आप दोनो को ही एक दूसरे के मन को समझना होगा क्या आप और आपका पार्टनर इस स्पर्श को महसूस करने को तैयार है। क्या वह किसी प्रकार के दबाव में तो संभोग के लिए तैयार नहीं हुआ है।
  • मानसिक रूप से तैयार (Mentally Prepare) – सेक्स करने से पहले आपको आपके पार्टनर को भावनात्मक रूप से तैयार होना आवश्यक है। आपको सेक्स के दौरान तथा संभोग करने के उपरान्त होने वाले हार्मोनल चेंज, दर्द आदि की पूरी जानकारी होना भी आवश्यक है।
  • दबाव न बनाये – सेक्स करने से पहले यह जान लें कि यदि आप संभोग का सुख प्राप्त करना चाहते हैं तो इसका एक ही अहम नियम है वह है प्रेम, प्यार के बिना बनाये गये शारीरिक संबंध दर्दनाक होता है। अपने साथी की भावनाओं का सम्मान करते हुए ही संभोग के लिए प्रयास करें।
  • प्यार भरा स्पर्श (Good Touch) – सेक्स करने से पहले प्रेम संबंध बनाना आवश्यक है। यौन संबंध बनाने से पहले अपने साथी के साथ फ्रेंडली हो तथा धीरे धीरे आगे बढे जैसे कि एक अच्छा स्पर्श, किस, आदि। यह आपको तथा आपके पार्टनर को शारीरिक संबंध बनाने में सहूलियत प्रदान करेगा।
  • फॉर प्ले (Foreplay) – जैसा कि नाम से स्पष्ट है यह प्रक्रिया सेक्स करने से पहले की है। इसमें पुरुष तथा स्त्री एक दूसरे के शरीर को स्पर्श करते हुए संभोग करने के लिए तैयार करते हैं। इस प्रक्रिया में एक दूसरे को चुम्बन करना, प्यार भरा टच करना, महिला के संवेदनशील अंगों को जीभ, होठ तथा हाथों से छूना आदि शामिल है। फोरप्ले महिलाओं के लिए आवश्यक क्रिया है। यह उन्हें उत्तेजित करने में मदद करता है। इस प्रक्रिया से महिला की वजाइना में प्राकृतिक ल्यूब बनता है एवं पुरुष के वजाइना में तनाव आता है। फोरप्ले करने पर स्त्री व पुरुष दोनों ही इंटरकोर्स के लिए उत्तेजना के शिखर पर पहुंच जाते हैं।
  • सही समय का इंतजार (Right Time) – सेक्स करने से पहले ध्यान रखें कि फोरप्ले होने के उपरांत पुरुष अपने तने हुए लिंग को महिला की योनि में जब तक न डाले जब तक की आपकी महिला साथी इसके लिए तैयार नहीं। चूँकि पुरुषों को पेनिस में तनाव आने के उपरान्त वजाइना में डालने की जल्दी रहती है, जो कि गलत है। सही समय पर योनि एवं पेनिस का मिलन आपको तथा आपके साथी को पूर्ण संतुष्टि एवं मानसिक शांति प्रदान करने में सहायक होता है।
  • सेक्स टॉयज का प्रयोग (Use of Sex Toys) – वर्तमान समय में बाजार में कई प्रकार के सेक्स टॉयज उपलब्ध हैं। जिनका प्रयोग कर आप आपने अंतरंग के पलों को और अधिक खास बना सकते हैं। यदि आपका सेक्स पार्टनर सेक्स टॉयज जैसे वाइब्रेटर, डिल्डो, आर्टीफिशिय वजाइना आदि के साथ सहज महसूस कर रहा है तो आप इनका प्रयोग कर सकते हैं।
  • अपनी कल्पना एवं अपेक्षा को एक दूसरे से बांटें – यौन संबंध / शारीरिक संबंध बनाने से पूर्व प्रत्येक स्त्री व पुरुष के मन में तरह तरह के प्रश्न होते हैं। आप और आपका सेक्स पार्टनर एक दूसरे से कुछ अपेक्षा एवं इच्छा रखते हैं। एक दूसरे इच्छा एवं अपेक्षा को जानें तथा सम्भव हो तो उन्हें पूर्ण करने का प्रयास करें।
  • अपने को साफ रखें – सेक्स करने से पहले आप दोनों अपने शरीर को साफ करें। यौन संबंध बनाते समय हाथ, मुँह, जीभ आदि का प्रयोग होता है। यदि आपका शरीर का कोई हिस्सा गंदा है या गंध कर रहा है तो आपका सेक्स पार्टनर असहज फील कर सकता है इसलिए स्वच्छता जरूरी है। अपने पब्लिक हेअर को भी साफ करना न भूलें। यदि आपके शरीर से दुर्गंध आ रही है तो आप डियोडरेंट / परफ्यूम का प्रयोग कर सकते हैं।
  • तनाव न लें – जिस व्यक्ति से आप प्रेम करते हैं और म्यूचल कॉंसेंट से शारीरिक संबंध बना रहे हैं तो सेक्स करने पर आपको खुशी व संतुष्टी प्राप्त होती है। कभी कभी तनाव के चलते आपको शारीरिक संबंध बनाने में असहज महसूस कर सकते हैं ऐसा न करें यह आपके अंतरंग पल के आनन्द को समाप्त कर सकता है।
  • सावधानियाँ हैं जरूरी – यदि आप सेक्स करने जा रहे हैं और नहीं चाहते कि आपका पार्टनर गर्भ धारण करे, तो कंडोम या गर्भनिरोधक गोलिया का उपयोग करें। कंडोम का प्रयोग आपको एस0टी0डी0 से भी बचाता है। असुरक्षित यौन संबंध कभी कभी आपको गंभीर यौन बीमारियां दे सकता है।
  • सही सेक्स पोजीशन चुनें – सेक्स करने की कई पोजीशन एवेलेवल है परन्तु आप वही सेक्स पोजीशन को चुनें जिसमें आप और आपका सेक्स साथी आरामदायक, सुखद एवं आनन्ददायक हो। भारत में डॉगी स्टॉयल एवं मिशनरी सेक्स पोजीशन अधिक प्रयोग की जाती है। सेक्स को और अधिक आनंददायक बनाने के लिए आप अन्य सेक्स पोजीशन भी आप ट्राइ कर सकते हैं।
  • प्रारम्भ एवं अंत को खास बनाएं – सेक्स की शुरुआत एवं अंत खास होना चाहिए, सेक्स को किसिंग के साथ शुरू करें तथा अंत में अपने साथी के साथ चिपक कर लेटें बातें करे तथा उसके बाद कपडे पहनने में मदद करें।

सैक्स कैसे करें के बारे में अकसर पूछे जाने वाले प्रश्न

प्रश्न – क्या सेक्स करने से महिलाओं की योनि से खून आता है?

उत्तर – यदि आपकी महिला मित्र कुँआरी है, तो प्रथम बार सेक्स करने के बाद उसकी योनि से खून का बहाव हो सकता है। यदि आप जबरदस्ती किसी महिला के साथ शारीरिक संबंध बनाते हैं तो भी वजाइना से खून निकलने के अवसर रहते हैं। पुरुष द्वारा गलत तरीके से महिला की योनि में लिंग डालने पर भी खून आ सकता है। यदि आपकी साथी पूर्ण रूप से उत्तेजित नहीं हुई है और आपने अपना लिंग उसकी योनि में  डाल दिया है तो भी योनि के सूखा होने के कारण दर्द व रक्तस्त्राव हो सकता है।

प्रश्न – क्या सेक्स करने से एच0आई0वी, एड्स, या अन्य एस0टी0डी होने का खतरा रहता है?

उत्तर – बिना किसी सुरक्षा के सेक्स संबंध बनाने से योन संचारित रोग (STD) होने का खतरा रहता है। असुरक्षित यौन संबंध बनाने पर भी आपको HIV व AIDS होने का खतरा रहता है।

प्रश्न – क्या सेक्स करने के बाद लिंग को साफ करना जरूरी है?

उत्तर – विशेषज्ञोंं के अनुसार शारीरिक संबंध बनाने के उपरांत पुरुष एवं महिला दोनों को ही अपने प्राइवेट पार्ट को साफ करना धोना आवश्यक बताया गया है। स्त्री एवं पुरुष के प्राइवेट पार्ट में पसीना अधिक आता है। वेक्टेरिया अधिक उत्पन्न होता है। अतः संक्रमण से बचने के लिए प्राइवेट पार्ट को साबुन या इंटीमेट वाश से धोना आवश्यक है।

Leave a Comment